पवन सिंह हत्याकांड की प्राथमिकी दर्ज, पांच नामजद

पवन सिंह हत्याकांड की प्राथमिकी दर्ज, पांच नामजद

By: Sanjeev kumar
January 11, 09:01
0
.....

LAKHISARAI:  पोखरामा नरसंहार के सूचक पवन सिंह की हत्या मामले में मृतक की पत्नी तिलोत्तमा देवी के बयान पर लखीसराय थाना में हत्या की प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। प्राथमिकी में पांच लोगों को नामजद एवं तीन अज्ञात लोगों को अभियुक्त बनाया गया है। लखीसराय थाना के सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार को इस कांड का आइओ बनाया गया है। उधर एसडीपीओ पंकज कुमार के नेतृत्व में गठित एसआइटी नामजद अभियुक्तों की कुंडली खंगाल रही है।

 

बुधवार की रात भी दियारा इलाके में छापामारी की गई। इस दौरान मखरू सिंह को हिरासत में लिया गया है। हालांकि हत्या के तीन दिन बाद भी पुलिस का हाथ खाली है। जानकारी के अनुसार पवन सिंह हत्याकांड में पोखरामा के शालिग्राम सिंह उर्फ खपरु सिंह के पुत्र गुड्डू सिंह एवं दिलीप कुमार, रमाकांत सिंह के पुत्र सुमन सिंह, गांगो सिंह के पुत्र श्री नंदन सिंह, नरेश सिंह के पुत्र शिवजी सिंह को नामजद अभियुक्त बनाया गया है।

 

तीन अज्ञात को भी अभियुक्त बनाया गया है। दर्ज प्राथमिकी में मृतक की पत्नी ने कहा है कि 8 जनवरी को कार्यानंद नगर स्थित पावर ग्रिड के नजदीक उसके घर पर पूजा था। उनके ससुराल पोखरामा से भी परिवार के लोग आए हुए थे। 9 जनवरी को उसके पति पवन सिंह अपने बड़े भाई अशोक सिंह के साथ दूध लाने आनंदी सिंह के दुकान पर गए हुए थे। आनंदी सिंह दूध लेकर आगे बढ़े और पवन सिंह दुकान पर ही बैठकर आग सेंकने लगे। इसी बीच एक बाइक पर सवार दो की संख्या में आए अपराधियों ने पवन सिंह पर गोलीबारी कर उसकी हत्या कर दी और बाइक से फरार हो गए। पोखरामा कांड में सूचक रहने के कारण उन्हें जान से मार देने की धमकी भी दी जा रही थी। जिसकी चर्चा पवन सिंह ने अपने घर में भी की थी।

 

कजरा थाना कांड संख्या 50/17 के अभियुक्तों की जमानत जिला कोर्ट से खारिज हो गई। इसके बाद जेल में बंद अभियुक्त किरण सिंह व अन्य द्वारा हाइकोर्ट से बेल कराने के लिए उसके द्वारा कांड का अभिप्रमाणित प्रति को निकालने का प्रयास किया जा रहा था जिसका पवन सिंह द्वारा विरोध किया गया था। इसके बाद अभियुक्तों ने फोन पर हत्या की धमकी दी थी। इसकी लिखित सूचना पवन सिंह ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी लखीसराय को 30 अगस्त 17 को दी थी। इसके बाद शालिग्राम सिंह के पुत्र धर्मराज सिंह ने फोन करके पवन सिंह को केस वापस ले लेने की धमकी दी थी। मृतक की पत्नी ने कहा है कि जेल में बंद अभियुक्तों द्वारा ही उसके पति की हत्या की साजिश रची गई। उसने ही नामजद अभियुक्तों के हाथों उसके पति की हत्या कार्रवाई है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments