मोदी के प्रधान सचिव को चीफ जस्टिस ने नहीं दिया मिलने का समय

मोदी के प्रधान सचिव को चीफ जस्टिस ने नहीं दिया मिलने का समय

By: Sanjeev kumar
January 13, 02:01
0
....

Live bihar desk:  जजों के बीच के विवाद मामले में यह खबर आज सुबह मीडिया में आयी कि जस्टिस जस्ती चेलमेश्वर आज मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा से मिलेंगे, ताकि विवाद सुलझे. हालांकि बाद में फिर यह खबर आयी कि दोनों आज नहीं मिलेंगे। दीपक मिश्रा के बाद चेलमेश्वर सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश है. दोनों अगर मिलकर बात करेंगे तो कामकाज को लेकर उत्पन्न स्थिति बदल सकती है। चेलमेश्वर के आॅफिस के सूत्रों ने बताया कि मुख्य न्यायाधीश पर आरोप लगाने वाले बाकी तीन जज अभी दिल्ली से बाहर हैं, इसलिए वे सीजेआइ दीपक मिश्रा से आज मिलने के इच्छुक नहीं हैं।

शनिवार को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने चार जजों के आरोपों को लेकर एक मीटिंग बुलायी है। इस मीटिंग में जस्टिस जस्ती चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ द्वारा मुख्य न्यायाधीश पर लगाये गये आराेपों पर विचार किया जाएगा। साथ ही इस संबंध में एक प्रेस कान्फ्रेंस कर मीडिया को जानकारी दी जाएगी। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास सिंह ने कहा है कि प्रेस कांफ्रेंस करने वाले जजों को ठोस बातें कहनी चाहिए थी। लोगों में मन में  आशंका उत्पन्न कर देना न्यायपालिका के हित में नहीं होगा। उन्होंने जज लोया को लेकर भी कुछ नहीं कहा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्रा की कार सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के आवास बाहर दिखी। नृपेंद्र मिश्रा का चीफ जस्टिस के घर से बाहर आते मीडिया में तसवीरें आयी हैं। सूत्रों का कहना है कि नृपेंद्र मिश्र मुख्य न्यायाधीश के आवास के बाहर पांच मिनट रुके लेकिन उनकी मीटिंग दीपक मिश्रा के साथ नहीं हो सकी। इस कारण उन्हें वहां से बैरंग लौटना पड़ा। प्रधानमंत्री मोदी के प्रधानमंत्री सचिव नृपेंद्र मिश्र की कार मुख्य न्यायाधीश के घर के बाहर दिखने के संबंध में बताया गया है कि उनकी कार से एक सहायक मुख्य न्यायाधीश के आवास के अंदर गया और कुछ मिनटों में वापस आ गया, जिसके बाद नृपेंद्र मिश्र की कार वहां से रवाना हो गयी। इस संंबंध में नृपेंद्र मिश्र क ओर से बताया गया कि वे नये साल का ग्रिटिंग देने के लिए मुख्य न्यायाधीश के घर के बाहर रुके थे।

सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जजों द्वारा मीडिया के सामने आकर मुख्य न्यायाधीश पर सुप्रीम कोर्ट प्रशासन, न्यायिक आदेश के संबंध में गंभीर आरोप लगाये जाने के संबंध में इस गतिविधि को अहम माना जा रहा है। जजों का कहना था कि उन्होंने मुख्य न्यायाधीश को समझाने की कोशिश की लेकिन वे इसमें विफल रहे, ऐसे में मीडिया के माध्यम से अपनी बात कह रहे हैं, ताकि कल कोई यह नहीं कहे कि हमने अपनी आत्मा बेच दी।


वहीं, अटाॅर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने इस मामले में आज अपने घर से निकलते हुए मीडिया से कहा कि हमें उम्मीद है कि यह मामला अच्छे से सलट जायेगा। वेणुगोपाल ने इस विवाद के बाद कल भी मुख्य न्यायाधीश से भेंट की थी। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मामले में कल कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से बात की थी और जानकारी ली थी। सरकार से जुड़े दो अहम शख्सियतों की आज की गतिविधि व बयान से यह संकेत मिलता है कि इस विवाद को सुलझाने के लिए सरकार सक्रिय है। 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments