भारत से बाहर बसता है एक और 'बिहार', यहां लोग मिलने पर बोलते हैं - का हाल बा...

भारत से बाहर बसता है एक और 'बिहार', यहां लोग मिलने पर बोलते हैं - का हाल बा...

By: Basant kumar
January 14, 05:01
0
.....

LIVE BIHAR DESK : क्या आप जानते हैं बिहार से मीलों दूर एक और भी 'बिहार' है, जहां कई बिहारी बसते हैं. इस देश का नाम है सूरीनाम, जिसे आधिकारिक तौर पर सूरीनाम गणराज्य के नाम से जाना जाता है। यहां बड़ी संख्या में हिंदू और भारतीय रहते हैं, इसलिए हिंदुस्तान भी कहा जाता है. आइए जानते हैं सूरीनाम से जुड़ी कई अहम बातें, जो आपको ध्यान रखनी चाहिए...

सूरीनाम, दक्षिण अमरीका महाद्वीप के उत्तर में स्थित एक देश है. सूरीनाम दक्षिण अमरीका का क्षेत्रफल और आबादी के हिसाब से सबसे छोटा संप्रभु देश है। सूरीनाम को 25 नवंबर 1975 में आजादी मिली थी।

सूरीनाम की आबादी में 37 फीसदी हिस्सा हिंदुस्तानी और 27.4 फीसदी हिस्सा हिंदुओं का है. सी आई कार्डों के लिए हर साल 400 के आसपास आवेदन आते हैं। इसकी राजधानी पारामारिबो है. सूरीनाम को कुल दस जिलों में विभाजित किया गया है।

यहां सबसे ज्यादा बोले जानी वाला भाषा डच है. साथ ही भोजपुरी या कैरीबियन भाषा भी अधिक मात्रा में बोली जाती है। सूरीनाम का समाज बहुसांस्कृतिक है, जिसमें अलग-अलग जाति, भाषा और धर्म वाले लोग निवास करते हैं।

देश की एक चौथाई जनता हर दिन 2 डॉलर से कम पर जीवनयापन करती है. इसके अलावा सूरीनाम बहुत से प्रसिद्ध फुटबॉल खिलाड़ियों की जन्म-भूमि भी रही है। 1873 में उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग वहां जाकर बसे, जब डच सरकार ने कांट्रेक्ट मजदूरों की नियुक्ति के लिए ब्रिटेन के साथ समझौता भी किया था।

सूरीनाम में भारतीय सांस्कृतिक केंद्र 1978 में खोला गया और वह कथक, योग और शास्त्रीय संगीत पर जोर देने के साथ हिंदी, लोक-नृत्य का भी प्रचार प्रसार कर रहा है। वहीं भारत और सूरीनाम के बीच आर्थिक संबंध भी है। 

सूरीनाम को किए जाने वाले निर्यातों में बॉयलर, मशीनरी, इस्पात, बिजली के उपकरण, औषधीय उत्पाद, वाहन, कॉफी, चाय, मसाले, पेपर आदि शामिल है। भारत ने साल 2014-2015 में सूरीनाम के साथ 210.87 मिलियन अमेरिकी डॉलर का कारोबार किया था और आगे भी इस संबंध को बरकरार रखा गया है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments