FBI कर रही थी नालंदा की सरस्वती की तलाश, बच्ची की मौत से मची सनसनी

FBI कर रही थी नालंदा की सरस्वती की तलाश, बच्ची की मौत से मची सनसनी

By: Sudakar Singh
October 23, 11:10
0
........

Patna : नालंदा मदर टेरेसा अनाथ आश्रम से गोद ली गयी बच्ची सरस्वती (भारतीय नाम, अमेरिकी नाम शेरिन मैथ्यूज) के लापता होने के बाद उसके शव मिलने की बात सामने आ रही है। हॉस्टन की पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। उसके बाद गोद लेने वाले दंपति के खिलाफ अरेस्ट वारंट जारी किया गया है। सरस्वती की मौत की खबर मिलने के बाद नालंदा के जिस संस्था ने गोद दिया था वहां मातम छाया हुआ है।


सरस्वती की गुमशुदगी के मामले को भारतीय विदेश मंत्रालय ने गंभीरता से लिया था। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा भारतीय बच्ची के गायब होने की परिस्थिति पर चिंता जताने के बाद लापता बच्ची के बरामदगी के आसार बढ़ गये हैं। भारतीय बच्ची शेरिन मैथ्यूज के दूध नहीं पीने पर उनके अमेरिकी माता-पिता द्वारा सजा के तौर पर घर से बाहर निकाल दिया था।
सात अक्तूबर को यह घटना हुई थी, तब से लेकर अब तक उस बच्ची के बारे में कोई अतापता नहीं मिल रहा था। नालंदा मदर टेरेसा अनाथ आश्रम के कर्मी भी इस घटना से मर्माहत हैं। सभी लापता बच्ची सरस्वती के शीघ्र बरामदगी की कामना कर रहे थे, लेकिन उसकी मौत की खबर से सनसनी मच गई है।



करीब दो सप्ताह पूर्व हुई इस घटना में रिचर्डसन शहर की पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए लापता बच्ची के गोद में लेने वाले पिता वेस्ले मैथ्यूज के घर से मोबाइल, लैपटॉप, वाशर, ड्रायर सहित 50 से अधिक सामान जब्त किया था।

वेस्ले मैथ्यूज ने पुलिस को बताया कि दूध नहीं पीने के दंडस्वरूप शेरिन मैथ्यूज को सात अक्तूबर की रात्रि में घर के बाहर छोड़ दिया था तब से वह लापता थी। विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने इस मामले में ट्वीट कर कहा कि हम लापता बच्ची को लेकर बहुत अधिक चिंतित हैं।

उन्होंने कहा था कि अमेरिका में भारतीय दूतावास सक्रियता से इस मामले को देख रहा है और हर अपडेट से मुझे अवगत कराया जा रहा है। हयूस्टन में भारत के महावाणिज्य दूत अनुपम रे ने भी ट्वीट कर कहा है कि हम शेरिन मैथ्यूज के मामले में करीबी निगाह रख रहे हैं। हमने समुदाय और अधिकारियों से इस मामले में संपर्क किया है।

बता दें कि लापता बच्ची सरस्वती के पिता भारतीय मूल के हैं। वे भारत के एर्नाकुलम के रहने वाले हैं। वे अमेरिका में एक निजी कंपनी में काम करते हैं और वहीं बस गये हैं। उनकी पत्नी भी अमेरिका में ही एक कंपनी में काम करती हैं।



अमेरिकी दंपति ने नालंदा की बेटी सरस्वती को गोद लेने के बाद अमेरिका ले जाकर उसे शेरिन मैथ्यूज नाम दिया था। उन्होंने सरस्वती को पिछले वर्ष नालंदा मदर टेरेसा अनाथ आश्रम से गोद लिया था। वेस्ले मैथ्यूज को पूर्व से भी एक बेटी है जबिक दूसरी संतान के रूप में सरस्वती को गोद लिया था।

नालंदा मदर टेरेसा अनाथ आश्रम की सचिव बबीता कुमारी बताती है कि इस घटना से उन्हें असीम तकलीफ हुई है। अनाथ आश्रम से अब तक करीब एक दर्जन बच्चों को विदेशी दंपति ने गोद लिया है, जबकि करीब 125 बच्चों को भारत के दंपति ने गोद लिया है, कभी भी ऐसी घटना नहीं हुई है।



यह घटना पहली घटना है। उन्होंने बताया कि ऑथॉराइज्ड फॉरनर एडॉप्शन एजेंसी को पत्र लिखकर सरस्वती को गोद लेने वालें दंपति का मोबाइल नंबर उपलब्ध कराने की मांग की है। उन्होंने यह भी बताया कि वेल्से मैथ्यूज को मोबाइल नंबर नहीं लग रहा है तथा उनका फेसबुक वे व्हाट्स एप भी काम नहीं कर रहा है, इसके कारण अमेरिकी दंपति से संपर्क नहीं हो पा रहा है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments