50 और 200 के नए नोट की जमकर हो रही कालाबाजारी, कुछ दिन पहले ही आया है नया नोट

50 और 200 के नए नोट की जमकर हो रही कालाबाजारी, कुछ दिन पहले ही आया है नया नोट

By: Sudakar Singh
September 13, 10:09
0
..........

Live Bihar Desk : पटना जंक्शन के पास वीणा सिनेमा स्थित कटे-फटे नोट बदलने वाली मंडी इस समय कुछ ज्यादा ही गुलजार है। वजह भी है। बाजार में नये और कड़कड़ नोटों की आमद हुई है। बैंकों में भले ये नोट आपको नहीं मिलें लेकिन इस मंडी में जरूर मिल जाएंगे। हां, कीमत थोड़ी अधिक चुकानी होगी। फिलहाल भी इस मंडी से आप 50 और 200 के नोट ब्लैक में खरीद सकते हैं।


कटे-फटे के नाम पर नए नोटों का धंधा:
वीणा सिनेमा के आसपास 'कटे-फटे नोट बदलें' का बोर्ड आपको कई जगह दिखाई देगा। यह वर्षों पुरानी मंडी है। कटे-फटे नोट बदलने वाले तो यहां कम ही आते हैं, लेकिन मंडी का असली कारोबार नई गड्डियों का है। दस रुपये, बीस रुपये, पचास रुपये और सौ रुपये की नई गड्डियां यहां ब्लैक होती हैं। प्रति गड्डी 50 से 100 रुपये अधिक कीमत चुकानी होती है। वैवाहिक मौसम में यहां जबरदस्त कारोबार होता है।



50 और 200 के नोटों की जबरदस्त मांग: 
इस समय लगन नहीं है। लिहाजा धंधा थोड़ा सुस्त था लेकिन 50 और 200 के नये नोटों ने मंडी के कारोबार में जान फूंक दी है। 50 और 200 के नोट एटीएम या बैंक शाखाओं में आपको मिले या न मिले, लेकिन यहां जरूर मिल जाएंगे। न पुलिस का डर, न बैंक बाबू का, कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है।

अमरेंद्र ने कहा कि मैंने 50 के दो नये नोट यहां से खरीदे। 50 का नोट 60 रुपये में मिला। अमरकांत ने कहा कि 200 के नोट के लिए मुझे 220 रुपये देने पड़े। एक धंधेबाज ने कहा कि पुलिस क्या पकड़ेगी, क्या उसे गड्डियों की जरूरत नहीं होती है? सब तो यहीं से ले जाते हैं।



बैंकों से है साठगांठ : 
यह पूछने पर कि गड्डियां कैसे मिल जाती है के जवाब में कहा कि अजब सवाल करते हैं। क्या गड्डी हम लोग छापते हैं? बैंक ही देता है। हमलोगों को भी देना पड़ता है। बिना लेनदेन कारोबार कैसे चलेगा धंधा? हालांकि कोई बैंकर इस मसले पर बोलने को तैयार नहीं हुआ। सभी ने एक स्वर में कहा-हमलोग यह काम नहीं करते हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments