यहां की खौफनाक बंद खदानों में होती है बूंदों की तलाश

यहां की खौफनाक बंद खदानों में होती है बूंदों की तलाश

By: Basant kumar
January 13, 04:01
0
....

LIVE BIHAR DESK : झारखंड के धनबाद जिले के धर्माबांध, देवघरा और बाबूडीह गांव में लोगों को पीने का पानी के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है।

इन गांवो की महिलाएं प्यास बुझाने के लिए बीसीसीएल की उस खदान में जान जोखिम में डालकर पानी लाने जाती हैं, जिसे खतरनाक मानकर 20 साल पहले बंद किया जा चुका है।

जीवन के लिए सबसे जरुरी पानी  को पाने के लिए इन गांवो की महिलाएं बंद पड़े खदानों में रिस रहे पानी को डेगची में भर कर लाने जाती जो सीधे तौर पर मौत से खेलने जैसा है। यह पानी की तड़प है, जो हर दिन दर्जनों महिलाओं को खदान के मुहाने पर खड़ा कर देती है। एक बाल्टी पानी के लिए वे खतरनाक खदानों और पथरीली राहों की यात्रा पर रोज निकलती हैं।

लकड़ी के खंभे के सहारे टिकी चट्‌टानों के नीचे बैठ-बैठ कर चलना अपने आप में चुनौती है। इस खदान की छत को लकड़ी के खंभों के सहारे रोक कर रखा गया है जो किसी बड़े हादसे को दावत देता दिखता है। संकरे और उतार-चढ़ाव वाले रास्ते से होकर 60 फीट गहरी खदान में उतराना पड़ता है। मुहाने पर खड़े होकर अंधेरे में अंदर जाने का रास्ता खोजना होता है।

रास्ते का अनुमान मिल जाए तो फिर घुटनों के बल बैठकर 500 मीटर तक सरकना होता है। अगर इन मुश्किलों को आपने झेल लिया, तो फिर आपको मिलेगा एक बाल्टी पानी।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments