मडुआ का आटा खाने से दूर होगी बीमारी, मोटापे को भी कर देगा छू-मंतर

मडुआ का आटा खाने से दूर होगी बीमारी, मोटापे को भी कर देगा छू-मंतर

By: priti singh
September 13, 02:09
0
...

PATNA… मडुआ या रागी का आटा खाने से कई बीमारियों से मुक्ति मिलती हे। रागी अथवा मडुआ खाने में स्वादिष्ट पोष्टिकता से भरपूर निरोग अनाज है। रागी का इस्तेमाल रोटी, सूप, जूस, उपमा, डोसा, केक, चॉकलेट, बिस्किटस, चिप्स, और आर्युवेदिक दवा के रूप में होता है।

भारत विश्व के टॉप 10 देशों में से नम्बर 1 पर हैं, जो सबसे ज्यादा रागी मडुआ पैदावार करने वाला देश है। रागी मडुआ के आटे को गेहूं आटे में मिलाकर हर घर में सेवन करना अति फायदेमंद है। रागी मडुआ अनाज का आटा घर में मौजूद गेहूं आटे के साथ मिलाकर सेवन करना अति फायदेमंद है।

रागी के आटे की रोटी खाने से शरीर में आसानी से कैल्शियम, प्रोटीन, ट्रिपटोफैन, आयरन, मिथियोनिन, रेशे, लेशिथिन इत्यादि महत्वपूर्ण स्वास्थ्यवर्धक तत्वों की पूर्ति हो जाती है।

मडुआ के फायदे
1- मोटापा घटाने के लिए डाईटिंग के दौरान रागी मडुआ आटे फायदेमंद है। मडुआ रागी में फैट की मात्रा कम होती है। साथ में एमिनो अम्ल और रेशे बुहु मात्रा में होते हैं।

2- रागी मडुआ में 80 प्रतिशत कैल्श्यिम की मात्रा पाई जाती है। रागी / मडुआ हड्डियों में ऑस्टियोपोरोसिस होने से बचाने में सहायक है।

3- मडुआ डायबिटीज पीड़िता के लिए उत्तम अनाज माना गया है। रागी मडुआ में रिच फाईबर युक्त और शुगर फ्री अनाज है।

4- रागी मडुआ में आयरन रिच मात्रा में मौजूद हैं। मंडुआ/रागी के आटे की रोटी और पत्तेदार हरी सब्जी लगातार 15-20 दिन मात्र खाने से रक्त की कमी तुरन्त दूर हो जाती है।

5- रक्तचाप बढ़ने पर नियंत्रण का काम करता हैं। रक्तचाप नियत्रंण करने के लिए रोज रागी मडुआ की रोटी खायें। फिर 1 गिलास नींबू रस पानी पीयें। मंडुआ रागी और नींबू रक्तचाव समस्या को ठीक करने सहायक है।

6- माताओं में दूध की कमी होने पर रोज मंडुआ रोटी साग खाने से समस्या दूर हो जाती है। मंडुआ रोटी, हरी साग, अंगूर, दूध, फल खूब खायें। इससे माताओं में फोलिक एसिड, आयरन, कैल्शियम, प्रोटीन, फाइबर, विटामिनस मिनरलस की पूर्ति आसानी हो जाती है। रागी मंडुवा एक तरह से नेचुरल टॉनिक का काम करता है।

7- रागी - मडुआ खाने से पेट की गैस कब्ज की समस्या कम करने में सहायक और पाचन शक्ति सुचारू करने में सहायक है। रागी - मडुआ जल्दी पाचने वाला निरोग अनाज है। रागी मंडआ में फाईटोएसिड पाया जाता है।

8- रागी - मंडुआ जुकाम, सर्दी से होने वाले गले दर्द, गले में खरास को जल्दी ठीक करने में सहायक है। 1 चम्मच अदरक रस, 5-6 लौंग पीसकर आधा लीटर पानी में उबाले। फिर उबले पानी में आधा कटोरी मडुआ रागी आटा अच्छे से मिलाकर पकायें। गर्म-गर्म सूजी सेवन करने से गला दर्द, खरास जल्दी करने में सहायक है।

9- रागी की रोटी खाने से और रागी त्वचा को रिच पोषण प्रदान करने में सहायक है। रागी फेस पैक, फेस मास्क त्वचा से दाग, धब्बे मिटाने में खास सहायक है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments