जेईई मेंस की उल्टी गिनती शुरू सटीक तैयारी से ही मिलेगा एडमिशन

जेईई मेंस की उल्टी गिनती शुरू सटीक तैयारी से ही मिलेगा एडमिशन

By: Sanjeev kumar
December 07, 06:12
0
......

Live bihar desk: हर दिन मैथ्स, फिजिक्स, केमिस्ट्री के लिए समय फिक्स कर लें। उस फिक्स समय में पूरी ईमानदारी के साथ हर दिन दो-तीन चैप्टर को अच्छे से रिवाइज करें।

बेहतर होगा शॉर्ट नोट्स बनाना : रिवीजन के दौरान एक काम ध्यान से करें। आप छोटे-छोटे नोट्स बनाते जायें। पिछले वर्षों के पैटर्न को देखते हुए हर चैप्टर से कुछ महत्वपूर्ण शॉर्ट नोट्स तैयार कर लें। खुद से तैयार किये हुए ये छोटे-छोटे नोट्स आपको हमेशा याद रहेंगे। साथ ही एग्जाम से एक हफ्ते पहले ये शॉर्ट नोट्स आपके रिवीजन और तैयारी में काफी मददगार साबित होंगे।

ज्यादा-से-ज्यादा सवालों को हल करें : अब तैयारी के लिए आपके पास वर्षों और महीनों का समय नहीं बचा है, बल्कि गिनती के दिन बचे हैं। ऐसे में आप सभी विषयों के सवालों को ज्यादा-से-ज्यादा हल करने की कोशिश करें। ऐसा करने से आपकी स्पीड बढ़ेगी। आपको ये भी पता चलेगा कि आप कहां बेहतर हैं और कहां आपको अधिक मेहनत की जरूरत पड़ेगी।

मॉक टेस्ट दें : बेहतर होगा कि अभी से ही आप मॉक टेस्ट देना शुरू कर दें। हर दिन आप कम-से-कम एक मॉक टेस्ट अभी से जरूर दें। ऐसा करने से आप टाइम मैनेज करना सीख जायेंगे। आपको अपनी कमियों के बारे में पता चलेगा और समय रहते आप अभी से उसे दूर कर सकते हैं। इसके साथ ही मॉक टेस्ट देने से ये भी पता चलेगा कि आपकी तैयारी किस स्तर पर है और उसे और कितनी तेज करने की जरूरत है। नियमित रूप से मॉक टेस्ट देने से आपके मन से एग्जाम फोबिया का डर हट जायेगा और आप निश्चिंत होकर जेईई मेंस का पेपर दे पायेंगे। आप जिस तरीके से भी जेईई में शामिल होना चाह रहे हैं, ऑनलाइन या ऑफलाइन उसी तरीके से मॉक टेस्ट दें, तो ज्यादा बेहतर होगा।

बोर्ड एग्जाम और जेईई की तैयारी साथ-साथ

आप इस बात से बिल्कुल भी न घबरायें कि आपको 12वीं की परीक्षा भी देनी है और साथ में जेईई की भी। आप जैसे तमाम छात्र ऐसा करके दोनों जगह से अव्वल रैंक लाते हैं। दोनों का सिलेबस काफी हद तक एक जैसा है। आप एक बेहतर प्लान के साथ दोनों की ही परीक्षाओं की तैयारी करें। बोर्ड परीक्षा शुरू होने के दो-तीन दिन पहले सिर्फ बोर्ड एग्जाम पर फोकस करें। वैसे एग्जाम के बीच-बीच में अगर दो-तीन दिन का गैप हो, तो उस दौरान जेईई की तैयारी पर ध्यान देते रहें। वैसे भी बोर्ड एग्जाम के बाद जेईई मेंस पेपर के बीच ज्यादा समय नहीं मिलता। ऐसे में दोनों को साथ लेकर चलना सबसे बेहतर होगा। इसके लिए आप दोनों के लिए अलग-अलग समय फिक्स कर लें तो सही रहेगा।

इन टॉपिक्स पर दें विशेष ध्यान : फिजिक्स : सिनेमेटिक्स, ग्रैविटेशन, फ्लूइड्स, हीट एंड थर्मोडायनामिक्स, वेव एंड साउंड, कैपिसिटर एंड एलेक्ट्रोस्टैटिसटिक्स- मैग्नेटिक इलेक्ट्रेमैग्नेटिक इंडक्शन एंड मॉडर्न फिजिक्स

केमिस्ट्री : इन-ऑर्गेनिक केमिस्ट्री (को-ऑर्डिनेशन केमिस्ट्री और केमिकल बाइंडिंग), फिजिकल एंड ऑर्गेनिक केमिस्ट्री (इलेक्ट्रोकेमिस्ट्री), केमिकल एंड आयोनिक इक्विलिब्रियम, मोल कॉन्सेप्ट।

मैथेमेटिक्स : अल्जेब्रा, कॉम्प्लेक्स नंबर, प्रोबैबिलिटी, वेक्टर्स, मेट्रिसाइज्स, को-ऑर्डिनेट ज्योमेट्री, पैराबोला, हाइपरबोला, कैल्कुलस,(फंक्शन लिमिट्स), कंटिन्यूटी एंड डेफ्रेसिबिलिटी, एप्लीकेशन ऑफ डेरेवेटिंग एंड डेफिनिट इंटिग्रल

ये मोबाइल एप करेगा मदद JEE Main Prep

इस एप्लीकेशन में जेईई के सिलेबस पर आधारित फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के काफी बेहतर स्टडी मीटिरयल और नोट्स दिये गये हैं। एग्जाम पैटर्न पर आधारित प्रैक्टिस सेट्स और उसके हल दिये गये हैं, जो तैयारी की राह को आसान करेगा। इसके साथ ही बैक ईयर के क्वैश्चन पेपर और उसका हल भी छात्र यहां पर देख सकते हैं। प्रवेश परीक्षा में सफलता के लिए काफी अहम ट्रिक्स दिये गये हैं, जिनका इस्तेमाल कर छात्र अपनी सफलता की राह को आसान कर सकते हैं। कम समय में कैसे ज्यादा से ज्यादा सवालों का सही से जवाब दिया जाये, इसके लिए काफी उपयोगी जानकारी है इस एप में।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments