JDU के दही-चूड़ा भोज में ‘कांग्रेस’ का तड़का, अशोक चौधरी को भायी वशिष्ठ बाबू की मेहमाननवाजी

JDU के दही-चूड़ा भोज में ‘कांग्रेस’ का तड़का, अशोक चौधरी को भायी वशिष्ठ बाबू की मेहमाननवाजी

By: Sudakar Singh
January 14, 03:01
0
.....

Live Bihar Desk : मकर संक्रांति के अवसर पर जदयू ने दही-चूड़ा भोज का आयोजन किया है। बीजेपी और जदयू के कई बड़े नेता इस भोज में पहुंचे हैं। मगर सबसे गौर करने वाली बात यह है कि कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी के साथ मुन्ना तिवारी और दिलीप चौधारी भी पहुंचे इस भोज में पहुंचे हैं। इस दौरान अशोक चौधरी ने कहा कि राजनीति में ना कोई शुरुआत होती है और ना ही पूर्णविराम होता है। वशिष्ठ बाबू से मेरे पूराने संबंध हैं। महागठबंधन टूटने के बाद भी मैं कई बार उनसे मिलता रहा हूं। इसपर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। वहीं जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि राजनीति में नजारा बदलता रहता है। उन्होंने मीडिया पर तंज कसते हुए कहा कि बदलते नजारे का मीडिया खूब मजा लेती है। 


उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि मकर संक्रांति से पहले राजनीति में बड़ा बदलाव हुआ है। बिहार के हित में विकास के लिए बड़ा परिवर्तन हुआ है। बिहार की जनता जो चाहती थी, वही बदलाव हुआ है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सामाजिक परिवर्तन के लिए जो मुहीम शुरू की है उसमें सबको हिस्सा लेना चाहिए। उन्होंने बीजेपी के सभी कार्यकर्ताओं से अपील की 21 जनवरी की मानव श्रृंखला में बढ़-चढ़ कर भाग लें और इसे सफल बनाएं। भोज में विरोधी पार्टियों के नेताओं को निमंत्रण देने के एक सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता किसे निमंत्रण भेज गया है और किसे नहीं। मैं बिहार में सालों से रह रहा हूं। आज तक लालू प्रसाद की तरफ से कभी निमंत्रण नहीं आया। 


गौरतलब है कि मकर संक्रांति से ठीक एक दिन पहले विधायक दल के नेता सदानंद सिंह के आवास पर कांग्रेस नेताओं की आपात बैठक बुलाई गई थी, जिसमें तमाम विधायकों को आमंत्रित किया गया था। अशोक चौधरी और उनके समर्थक विधायक बैठक से नदारद दिखे। कांग्रेस पार्टी में असंतोष को कम करने के लिए पहल की गई। बैठक में तमाम विधायकों को मौजूद रहने को कहा गया था। लेकिन आधे दर्जन विधायक ही बैठक में मौजूद दिखे।

कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी विधायक दल के नेता सदानंद सिंह के अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शकील अहमद बैठक में मौजूद थे। कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी का आवास सदानंद सिंह के आवास से महज आधे किलोमीटर दूरी पर है, लेकिन अशोक चौधरी सदानंद सिंह द्वारा बुलाई गई बैठक में मौजूद नहीं रहे। अशोक चौधरी गुट के समर्थक विधायक अजीत शर्मा, मुन्ना तिवारी, दिलीप चौधरी, रामचंद्र भारती सहित दर्जनों विधायक बैठक से दूर रहे।
     
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments