बालूबंदी की मार, बालू नहीं मिलने से 4.34 लाख में से 1400 गरीबों को ही मिला आशियाना

बालूबंदी की मार, बालू नहीं मिलने से 4.34 लाख में से 1400 गरीबों को ही मिला आशियाना

By: Sudakar Singh
January 09, 08:01
0
........

Live Bihar Desk : राज्य में पांच महीने से जारी बालू संकट के असर से गरीबों का आशियाना भी अछूता नहीं है। बालू नहीं मिलने से प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण में मकानों का निर्माण बाधित है। वित्तीय वर्ष 2016-17 में प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के तहत आवंटित 4.34 लाख मकान में से मात्र 1400 का निर्माण पूरा हुआ है। 


काम की गति का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक जनवरी, 2018 तक 3.78 लाख लाभार्थियों में से मात्र 51 हजार लाभार्थियों को दूसरी किस्त की राशि दी गई। पहली किस्त लेने के बाद काम नहीं होने के कारण दूसरी किस्त की राशि नहीं दी जा सकी है। वहीं तीसरी किस्त की राशि लेने वाले लाभार्थियों की संख्या महज 3370 है। 


राज्य के 38 में से 15 जिले ऐसे हैं, जहां पूरा हो चुके आवास की संख्या दस से भी कम है। वहीं आठ जिलों में दस से कम लोगों को तीसरे किस्त की राशि दी गई है। ग्रामीण विकास विभाग के लिए 31 मार्च पौने पांच लाख आवास का निर्माण पूरा कराना बड़ी चुनौती है। हालांकि, सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को बालू उपलब्ध कराने की पहल की है। खान एवं भूतत्व विभाग को पत्र लिख कर प्रखंडों में बालू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। प्रखंडों में बनाए गए डिपो से लाभार्थियों को सरकारी दर पर बालू उपलब्ध कराई जाएगी।    


राज्य के 38 में से 15 जिले ऐसे हैं, जहां पूरा हो चुके आवास की संख्या दस से भी कम है। वहीं आठ जिलों में दस से कम लोगों को तीसरे किस्त की राशि दी गई है। ग्रामीण विकास विभाग के लिए 31 मार्च पौने पांच लाख आवास का निर्माण पूरा कराना बड़ी चुनौती है। हालांकि, सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को बालू उपलब्ध कराने की पहल की है। खान एवं भूतत्व विभाग को पत्र लिख कर प्रखंडों में बालू उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है। प्रखंडों में बनाए गए डिपो से लाभार्थियों को सरकारी दर पर बालू उपलब्ध कराई जाएगी। 
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments