नीतीश कर लें कितने भी ट्वीट मगर इस मामले में अब भी हैं लालू से पीछे 

नीतीश कर लें कितने भी ट्वीट मगर इस मामले में अब भी हैं लालू से पीछे 

By: Sudakar Singh
December 05, 01:12
0
......

Live Bihar Desk : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार  पिछले कुछ दिनों से अपने विरोधियों पर हमला बोलने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। नीतीश अपने ट्वीट में किसी का नाम नहीं लेते मगर ट्वीट पढ़ के साफ पता चल जाता है कि वह राजद सुप्रीमो लालू यादव और उनके परिवार को निशाना बना रहे हैं। हालांकि लालू यादव सोशल मीडिया पर पहले से ही काफी सक्रिय हैं। वह सोशल मीडिया से ही अपने विरोधियों पर हमला बोलते हैं। 


सोशल मीडिया में लोकप्रियता की बात करें तो नीतीश कुमार इस मामले में लालू यादव से काफी पीछे है। ट्वीटर पर लालू यादव के फॉलोवर 34 लाख से अधिक हैं, वहीं नीतीश के फॉलोवर महज 27 लाख के आस-पास ही हैं। दूसरी गौर करने वाली बात यह है कि नीतीश कुमार ने लालू यादव को तो फॉलो किया है मगर लालू यादव ने नीतीश को फॉलो नहीं किया।    


बिहार में महागठबंधन की सरकार टूटने और नीतीश का बीजेपी के साथ जाने के बाद से ही लालू यादव सोशल मीडिया के माध्यम से नीतीश और अपने विरोधियों पर हमला बोतले आ रहे हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी लोकप्रिय भी हो रहे हैं। शायद यही कारण है कि लालू यादव और उनके परिवार को जवाब देने के लिए नीतीश भी सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं।
27 नवंबर से नीतीश और लालू के बीच ट्वीट वार जारी है। किसी का नाम लिए बगैर दोनों एक दूसरे पर हमला बोल रहे हैं। नीतीश और लालू के बीच ये ट्वीट वार केंद्र सरकार द्वारा लालू की जेड प्लस सुरक्षा हटाने के बाद से शुरू हुई। 26 नवंबर को केंद्र सरकार ने बिहार के दो पूर्व मुख्यमंत्रियों  लालू यादव और जितन राम मांझी समेत देश के आठ वीवीआईपी नेताओं की सुरक्षा में कटौती कर दी। अब लालू यादव को जेड प्लस की जगह जेड सुरक्षा ही मिलेगी। 


अपनी सुरक्षा में कटौती होता देख 27 नवंबर को राजद सुप्रीमो लालू यादव ने मोदी सरकार और नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने लिखा कि सुनो मोदी, लालू डरने वाला इंसान नहीं है। किसी दूसरे को डराओ, जैसे नीतीश को डराया। बिहार की 11 करोड़ जनता और बच्चा-बच्चा मेरा रक्षक है। 
उन्होंने अपने एक दूसरे ट्वीट में लिखा कि पीएम  मोदी नहीं चाहते हैं कि हम कहीं आए और जाए। मुझ पर कहीं भी हमला कराया जा सकता है। रेलमंत्री रहते गुजरात गया था, तब मोदी सीएम थे। उस वक्त भी इन्होंने मेरी गाड़ी पर पथराव करवाया था। मेरे गुजरात चुनाव में जाने के नाम से ही सुरक्षा काट दिया। लालू से काहे इतना डरते हैं। 


इस ट्वीट के जवाब में नीतीश कुमार ने 28 नवंबर को लालू का नाम लिए बिना लिखा कि राज्य सरकार द्वारा जेड प्लस और एसएसजी की मिली हुई सरक्षा के बावजूद केंद्र सरकार से एनएसजी और सीआरपीएफ के सैकड़ों कर्मियों की उपलब्धता के जरिए लोगों पर रौब गांठने की मानसिकता, साहसी व्यक्तित्व का परिचायक है। इसके बाद से ही लालू और नीतीश में ट्वीटर जंग जारी है।     
 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments