पूर्व मुखिया के खिलाफ 23 लाख गबन की प्राथमिकी दर्ज

  • 03 Jan, 2017
  • Arvind kumar
  • Sanjeev kumar

JAMUI: सिकन्दरा प्रखंड में विकास योजनाओं में राशि की बंदरवांट की नित नये-नये मामले सामने आ रहे हैं। ताजा मामला बिछवे पंचायत का है जहां बिना काम कराए चौदहवें वित्त आयोग की 23 लाख 11 हजार की निकासी कर ली गई।

योजना पतम्बर गांव में ईंट सोलिंग के उपरांत पीसीसी सड़क बनाने से संबंधित था। मनरेगा योजना समेत अन्य योजनाओं की जांच के क्रम में यह मामला सामने आने पर लोग दातों तले उंगली दबा रहे हैं। जिलाधिकारी कौशल किशोर के निर्देश पर प्रखंड विकास पदाधिकारी विकास कुमार ने पूर्व मुखिया ओंकार प्रसाद एवं पंचायत सचिव के खिलाफ नामजद प्राथमिकी सिकन्दरा थाना में दर्ज कराई है।
थानाध्यक्ष विवेक भारती ने बताया कि जांच के क्रम में जिनकी संलिप्तता आएगी उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। बिछवे पंचायत में उजागर इस घोटाले के बाद अन्य पंचायतों में भी ऐसे मामले सामने आने की संभावना व्यक्त की जा रही है।इधर प्रखंड के सभी चौदह पंचायतों में मंगलवार से जांच टीम ने जांच शुरू कर दी है।बताते चलें कि फर्जी खाता के माध्यम से मनरेगा योजना की राशि की लूट मामले की जांच सिकंदरा पुलिस के अलावा आर्थिक अपराध कोषांग की टीम एवं जिलाधिकारी द्वारा गठित जांच टीम अलग-अलग जांच कर रही है। 

Leave A comment

यह भी देखेंView All