युग द्रष्टा व सीवान के मालवीय दाढी बाबा की मनाई गई जयंती

  • 04 Jan, 2017
  • Sanjeev kumar

SIWAN( ASHUTOSH KUMAR): नगर के मालवीय चौक स्थित महान चिंतक वैधनाथ प्रसाद उर्फ दाढ़ी बाबा की आज 134 वीं जयंती हर्षोल्लास के साथ मनाई गयी।

इस अवसर पर दाढ़ी बाबा के जीवनी पर बुद्धिजीवियों ने प्रकाश डाला। पूरा समाज बड़े श्रद्धा के साथ इस महान कर्मयोगी को अपने सुमन के फूल अर्पित किया। बताया गया कि सीवान में दर्जनभर से अधिक संस्थाओं की स्थापना करने वाले दाढी बाबा जिले में मालवीय के नाम से विख्यात हैं।
कोई इस धारा पर रहे ना रहे बाबा 1920 के दशक से लेकर 50 के दशक तक कृति प्रदान कर गये हैं वह हमेशा जीवंत बना रहेगा। दाढ़ी बाबा का जन्म सीवान नगर के कागजी मुहल्ले में 3 जनवरी 1884 को हुआ था।
वे सीवान के दूसरे डिग्रीधारी शिक्षाविद थे। शिक्षा की अलख जगाते हुए 1912 में अपने आवास पर ही डीएवी संस्थान की स्थापना करते हुए 1928 में डीएवी मिडिल स्कूल, 1929 में डीएवी हाईस्कूल और 1941 में डीएवी कॉलेज की स्थापना किया। जिले में आर्य समाज को पल्लवित पोषित और संरक्षित करने वाले बाबा 1962 में आर्य कन्या उच्च विद्यालय को स्थापित किया।  समाज को जागरूक एवं परिपक्व करते हुए दाढ़ी बाबा 1927 में सीवान नगरपालिका के अध्यक्ष चुने गए और 1945 तक इसका पद को सुशोभित किये।
संगीतज्ञ धममारिया खाकी के नाम पर बाबा ने 1956 में खाकी संगीत महाविधालय की स्थापना की। दाढी बाबा बॉली बॉल के अच्छे खिलाड़ी थे। छात्रों में खेलकूद की भावना विकसित करने के लिए उन्होंने 1962 में राजेंद्र स्टेडियम की स्थापना में सराहनीय भूमिका निभाई।  उनका जीवन अत्यंत नियमित और संयमित था। व्यायाम और योगाभ्यास उनके साधना का अंग था। चौरासी वर्ष की आयु में उनका स्वर्गवास 27 मई 1968 को हो गया।
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All