अंदर गुरु नाम, बाहर प्रधानमंत्री के जयकारे

  • 06 Jan, 2017
  • priti singh

PATNA: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गांधी मैदान से रवाना होते ही बाहर खड़ी भीड़ बेकाबू हो गई। प्रकाशोत्सव में शामिल होने गांधी मैदान आए लोगों के प्रवेश को 4 बजे शाम तक के लिए रोक दिया गया था।

इस कारण लोगों ने गुस्से में गेट नंबर 5 और 2 के पास हो-हल्ला किया। भीड़ में से कुछ लोगों ने गेट की ओर पत्थर और जूते चप्पल भी उछाले। गुस्साई भीड़ ने सड़कों पर लगे पोस्टर बैनर को निशाना बनाया।
भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया। इस कारण लोगों में अफरा तफरी मची और कई लोग मामूली रूप से घायल भी हो गए। लाठीचार्ज के कारण कई लोग सड़क पर गिर गए जिससे उन्हें चोट आई।
घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर सिटी एसपी चंदन कुशवाहा पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया। सिटी एसपी ने कहा कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया गया।

इसके पहले शाम के छह बजे गांधी मैदान के अंदर और बाहर दोनों तरफ लोगों की भीड़ अधिक हो गई थी। गांधी मैदान टेंट सिटी की ओर जनसैलाब उमड़ पड़ा। बाहर भी श्रद्धालुओं की लाइन लंबी हो गई थी।
इसके बाद खुद जिलाधिकारी संजय कुमार अग्रवाल, एसएसपी मनु महाराज, सिटी एसपी चंदन कुशवाहा, एएसपी फुलवारी राकेश ने मौके पर पहुंच कमान संभाली।
 
मंच से बिहार और सरकार के मुखिया नीतीश कुमार की तारीफ। हर तारीफ पर तालियों का शोर और बोले सो निहाल, सतश्री अकाल की गूंज। बिहार, पटना के नाम के हर उद्घोष पर श्रद्धालुओं के खिले चेहरे।
20 हजार से अधिक श्रद्धालु दरबार हॉल के अंदर तो उससे से अधिक हॉल के बाहर। यह नजारा था गांधी मैदान टेंट सिटी का। प्रकाशोत्सव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राज्यपाल रामनाथ कोविंद गांधी मैदान आए थे।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत अन्य लोग दोपहर 12.28 बजे दरबार हॉल में मुख्य मंच के पास आए। प्रधानमंत्री ने श्री गुरुग्रंथ साहिब के आगे मत्था टेका और दो मिनट बाद मुख्य मंच पर बैठे।
स्वागत में दस मिनट तक गुरुवाणी कीर्तन सुनाया गया। इसके बाद एक-एक कर मंच पर बैठे अतिथियों ने भाषण दिया। हर भाषण में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रशासन की खूब तारीफ हुई।
पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कहा 70 साल का हो गया हूं। बहुत सारे समागम देखे हैं, पर जिस तरह से नीतीश कुमार ने दिलचस्पी और श्रद्धा दिखाई है इसकी मिसाल कहीं नहीं मिलती। नीतीश ने पंजाबियों का दिल जीत लिया है।

दरबार हॉल में सुबह 11.56 बजे राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव अाए। श्रद्धालु लालू प्रसाद को देखते ही अपने ब्लॉक में आगे बढ़े और उनमें सेल्फी लेने की होड़ लग गई।
लालू प्रसाद ने श्रद्धालुओं से हाथ मिलाया और अभिवादन करते आगे बढ़े। दस मिनट बाद सांसद अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा आए और सेल्फी की होड़ मची।
गांधी मैदान के अंदर हर जगह बोले सो निहाल... सुनाई देता रहा तो वहीं प्रधानमंत्री की एक झलक पाने के लिए बाहर में खड़े लोग किसी भी वीआईपी की गाड़ी को देख मोदी-मोदी चिल्लाने लगते।
सिख फौजियों का एक ट्रुप गाड़ी से रहा था। सड़क के किनारे खड़े लोगों ने पूछा- क्या सर कैसा लगा? सिख फौजी ने जवाब दिया बहुत बढ़िया। लोगों ने कहा यही तो बिहार है।

दरबार हॉल में जाने के लिए वीआईपी गेट से इंट्री नहीं मिली तो करीब 15 जत्थेदार गेट के पास धरने पर बैठ गए। मामले को सुलझाने के लिए पुलिस आई और उसके बाद प्रकाशोत्सव कमेटी के संयोजक जीएस कंग आए और मामले को सुलझाया।
सभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक झलक पाने और उनकी आवाज सुनने को बेताब। चिल्ड्रन पार्क के समीप गेट नंबर-4 से प्रवेश करने के लिए नौजवानों ने हंगामा शुरू कर दिया। इसी समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की आवाज गांधी मैदान में गूंजने लगी।
बाहर मोदी के जयकार का नारा लगाते हुए नौजवानों की तालिया गूंजने लगीं। जेपी गोलंबर पर लोगों की भीड़ बढ़ते ही सुरक्षा बलों ने कमान संभाली। इसके बाद सैकड़ों की संख्या में आए पुलिसकर्मियों ने हाथ से हाथ जोड़ कर घेरा बनाया।
इसके बाद पीएम का कारकेड 1.45 बजे जेपी गोलंबर से गुजर सका। गांधी मैदान के दरबार हॉल में गुरुवार को श्री गुरुग्रंथ साहिब की पालकी के सामने मत्था टेकने वालों की कतार अन्य दिनों की अपेक्षा और लंबी दिखी।
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All