समेकित प्रयास से सफल हुआ प्रकाश पर्व का आयोजन : सुशील मोदी

  • 06 Jan, 2017
  • Basant kumar

PATNA : श्री गुरुगोविन्द सिंह जी के 350 वें प्रकाशोत्सव के सफलतापूर्वक आयोजन समेकित प्रयास का परिणाम है। यह कहना है भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी का।

सुमों ने कहा है कि केन्द्र व राज्य सरकार के साथ ही गुरुद्वारा प्रबंधक समिति, पंजाब के विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों, राज्य सरकार के तमाम प्रशासनिक व पुलिस पदाधिकारी-कर्मी के साथ ही बिहार की जनता के सहयोग से इतना बड़ा आयोजन भव्य रुप से संपन्न हुआ है। इसके लिए मैं सभी को बधाई देता हूं।
उन्होंने कहा कि आयोजन को सफल बनाने में केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय और रेलवे का योगदान भी सराहनीय रहा है। भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय ने प्रकाशोत्सव के लिए 41.53 करोड़ रुपये आवंटित किया, जिसमें गुरु के बाग के विकास के लिए 4.41 करोड़, कंगन घाट के लिए 12.34 करोड़, लाइटिंग, पथ निर्माण व अन्य आधारभूत संरचना के लिए 21 करोड़ का प्रावधान था।
वहीं रेलवे ने भी विभिन्न मद में 40 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च कर आयोजन में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं की सुविधा को बेहतर बनाया। रेलवे ने पटना सहिब और पटना घाट स्टेशन के विकास पर क्रमशः 8.25 करोड़ और 1.3 करोड़ रुपये खर्च किए। एक करोड़ की लागत से पटना साहिब से पटना घाट तक नई रेल लाइन बिछाई गई।
पटना जंक्शन से पटना साहिब के लिए प्रत्येक घंटे ट्रनों के परिचालन के साथ ही पटना साहिब स्टेशन पर 63 ट्रेनों का अस्थायी ठहराव किया गया। ट्रेनों में बड़ी संख्या में अतिरिक्त कोच लगाने, पटना जंक्शन पर बुजुर्ग यात्रियो के लिए बैटरीचालित गाड़ी, पीने के पानी और साफ-सफाई की व्यवस्था तथा टेंट सिटी में आरक्षण काउंटर आदि खोल कर आयोजन को सफल बनाने में सहयोग किया।
सुमो ने कहा कि अन्तरदेशीय जलपरिवहन प्राधिकार ने कंगन घाट से गाय घाट होते हुए गांधी घाट तक पानी के तीन जहाजों का परिचालन कर प्रतिदिन 10 हजार श्रद्धालुओं को आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराया। नुरूम के तहत केन्द्र सरकार ने 100 से अधिक बसें उपलब्ध कराई। पंजाब की अनेक स्वयंसेवी संस्थाओं ने संगत और श्रद्धालुओं के लिए दिन-रात विशाल लंगर चलाया जहां बिहार के भी लाखों लोग गुरु का प्रसाद छक कर धन्य हुए। इन संस्थाओं के अतुलनीय कार्य को बिहारवासी हमेशा याद रखेंगे।
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All