बिहार में फारूख अब्दुल्ला पर राजद्रोह का एफआइआर

  • 11 Jan, 2017
  • Basu mitra

PATNA : बिहार के सीतामढ़ी में जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला पर उनके एक आपत्तिजनक बयान को लेकर बिहार के राजद्रोह के आरोप में एफआइआर होने का मामला सामने आया है।

फारूख अब्दुल्ला पर यह एफआइआर उनके द्वारा दिए गए विवादित बयान के बाद दर्ज किया गया है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने अपने विवादित बयान में कहा है कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों से मुकाबला करने में भारतीय फौज सक्षम नहीं है। उनके इस बयान को लेकर सीतामढ़ी कोर्ट के आदेश पर एफआइआर दर्ज की गई है।
 
बताते चलें कि साल 2015 में कि फारूख अब्दुल्ला ने बयान दिया था कि अगर भारत की पूरी फौज भी लगा दी जाए तो भी वह आतंकवादियों का मुकाबला नहीं कर सकती है। इसे आधार बनाते हुए स्थानीय अधिवक्ता ठाकुर चंदन सिंह ने 30 नवंबर 2015 को कोर्ट में मुकदमा किया था।
मुकदमा में उन्होंने बयान को आपत्तिजनक व गैर जिम्मेदाराना बताते हुए राजद्रोह का आरोप लगाया था।मुकदमे की सुनवाई लंबी चली। मामले में अंतत: सीजेएम राम बिहारी ने नगर थाने को मामले की एफआइआर दर्ज कर अनुसंधान करने का आदेश दिया, लेकिन थाने में एफआइआर दर्ज करने में विलंब किया जा रहा था। अंतत: बीते दिन एसपी के आदेश पर एफआइआर दर्ज कर ली गई।
बताया जा रहा है कि बिहार पुलिस इस मामले में जल्द ही कारवाई करेगी। हाल के ही दिनों में पूर्व मुख्यलमंत्री फारूक अब्दु ल्ला ने पीओके पर भारत के दावे को लेकर एक और विवादित बयान दिया था। फारूक अब्दुल्ला के मुताबिक पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर हासिल करना भारत के लिए आसान नहीं है। उन्होंने कहा था कि पीओके तुम्हारे बाप का है क्या? पीओके हिंदुस्तान की बपौती नहीं, तुम्हारे पास वो ताकत नहीं है कि तुम वो हिस्सा ले सको।
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All