'हर ग्राम पंचायत में उच्च माध्यमिक स्कूल खोले जायेंगे'

  • 11 Jan, 2017
  • Shashank Kumar

पटना : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को मानव विकास मिशन की योजनाओं को हर हाल में समय पर पूरा करने का टास्क दिया है। बिहार विकास मिशन की नौ घंटे तक चली मैराथन बैठक में मानव विकास से जुड़े सभी विभागों की बारी-बारी से समीक्षा की गयी।

मुख्यमंत्री ने सात निश्चय के सभी बिंदुओं की भी समीक्षा की। बैठक में सभी विभागों के मंत्री, प्रधान सचिव और परामर्शी शामिल हुए। मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में यह बिहार विकास मिशन के शासी निकाय की तीसरी बैठक थी। मुख्यमंत्री ने सभी विभागीय प्रधान सचिवों को सात निश्चय की योजना को पूरा करने में आनेवाली कठिनाई को दूर करने का निर्देश दिया।  
मुख्यमंत्री ने स्वयं सहायता भत्ता योजना और कुशल युवा कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए कहा कि यदि कोई छात्र पढ़ाई कर रहा है तो उसे स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करना चाहिए न कि स्वयं सहायता भता के लिए। मुख्यमंत्री ने जिला निबंधन एवं परामर्श केंद्र के काउंटर पर आनेवाले युवाओं को कुशल युवा योजना के तहत प्रशिक्षण के लिए प्रेरित करने का निर्देश दिया। समीक्षा में बताया गया कि उद्यमी युवाओं की सहायता के लिए पांच सौ करोड़ रुपये के वेंचर कैपिटल फंड का गठन किया गया है। साथ ही इनक्यूवेशन सेंटर की स्थापना की गयी है। अब तक स्टार्टअप के लिए 370 आवेदन मिले हैं। सभी सरकारी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में मुफ्त वाइ-फाइ की सुविधा उपलब्ध कराने की भी समीक्षा की गयी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को योजना के लाभ के लिए भरे जानेवाले आवेदन को और सरल बनाने का निर्देश दिया। 
 
महिला का अधिकार निश्चय के संबंध में बताया गया कि महिलाओं को राज्य सरकार की नौकरियों में 35 प्रतिशत आरक्षण देने की व्यवस्था लागू हो चुकी है। साथ ही शासी निकाय की बैठक में अगले चार साल में बचे 8343 पंचायतों को खुले में शौच से मुक्त करने का लक्ष्य तय किया गया। शहरी क्षेत्र में तीन साल में 140 नगर निकायों में शेष 793 लाख घरों को खुले में शौच मुक्त कर लिया जायेगा। उन्होंने कहा कि हर ग्राम पंचायत में उच्च माध्यमिक स्कूल खोले जायेंगे। उच्च शिक्षा का ग्रॉस इनरॉलमैंट रेशियो 13 प्रतिशत को 2020-21 तक 50 प्रतिशत करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।   

Leave A comment

यह भी देखेंView All