वैशाली महादलित बलात्कार-हत्याकांड पर सरकार की खामोशी निंदनीय : AISA

  • 12 Jan, 2017
  • Sanjeev kumar

PATNA: वैशाली के अंबेदकर बालिका आवासीय विद्यालय में 8 जनवरी को महादलित-छात्रा के साथ सामूहिक दुष्कर्म- हत्याकांड में संलिप्त लोगों को बचाने और इस पूरे मामले को रफा-दफा करने की कोशिशों के खिलाफ आज आइसा ने पीयू गेट से प्रतिरोध मार्च निकाला।

इस गम्भीर मसले पर विद्यालय प्रशासन और बिहार सरकार की चुपी के खिलाफ प्रतिरोध मार्च मेंआइसा और एआईएमएसए के लोग शामिल थे। मार्च पटना यूनिवर्सटी से चलकर कारगिल चौक, गांधी मैदान तक गया और वहीं पर समापन हुआ। आइसा के राज्य सचिव शिव प्रकाश रंजन ने कहा कि जिस तरह से इस मामले की लीपापोती की जा रही है, ये सुशासन के नाम पर बिहार में नीतीश सरकार के सुशासन व्यस्था की पोल खोलती है। उन्होंने पीड़िता परिवार की सुरक्षा और 20 लाख का मुआवजा के साथ परिवार के किसी एक परिजन को नौकरी देने की मांग की।
वही आइसा के राज्य अध्यक्ष मोख्तार ने कहा कि बिहार में पिछले विगत समय में जिस तरह दलितों पर हमले बढ़ रहे हैं, ये सुशासन सरकार के सामंती चेहरा को उजागर करता है। दलित और गरीब हितों की बात करने वाले नीतीश कुमार आज दलित छात्रों का रिजवेंशन काट रहे हैं।उन्होंने इसके साथ ये भी बताया कि जिस तरह शुरू में इस पुरे मामले को रफादफा करने की तैयारी थी इससे संदेह होता है कि इसमें बड़े सफेदपोश के नाम भी सामने आ सकता है। परंतु आइसा और ऐपवा की टीम ने विद्यालय और दिवंगत छात्रा की माँ से मिला और उनका बयान सुना।
आइसा और ऐपवा के टीम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये पुरे मामले को मीडिया और लोगो के सामने लाया। फिर भी सरकार की नींद नहीं खुली है। उन्होंने मांग किया कि बिहार भर में चल रहे सभी अम्बेदकर आवासीय बालिका विद्यालय की छात्राओं की सुरक्षा की गारंटी करे और इस मामले की स्वतंत्र और उच्चस्तरीय जांच हो और इसमें पाये जाने वाले दोषियों पर स्पीड ट्रायल चलाकर उनको सजा दिलवाये।
वही ऐमसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अलोक तिवारी ने कहा जिस तरह से दिंवंगत छात्रा के माँ ने बयान दिए उससे स्पस्ट होता है कि छात्रा के साथ बलात्कार हुआ था और जिस तरह से प्रशासन ने इसकी लीपापोती की तो इसमें कतई संदेह नही है कि इसके मेडिकल रिपोर्ट के साथ भी छेड़छाड़ किया जा सकता है इसीलिए हम ये मांग करते है कि उसके मेडिकल रिपोर्ट को भी सार्वजनिक किया जाये और दोषियों को अविलंब गिरफ्तार किया जाये।
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All