..तो NDA में लौटेंगे नीतीश कुमार

  • 11 Jan, 2017
  • Shashank Kumar

दिल्ली/पटना: हाल के दिनों में नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू, बीजेपी को कई मुद्दे पर साथ देते नजर आए।

वहीं तीन मुद्दे पर आरजेडी और जेडीयू में दूरी देखी गई। नोटबंदी के फैसले पर नीतीश ने खुलकर केन्द्र सरकार की प्रशंसा की। उसके बाद राहुल गांधी द्वारा पीएम नरेंद्र मोदी पर कथित तौर पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोपों पर भी नीतीश की पार्टी का स्टैंड ,आरजेडी और कांग्रेस से अलग रहा । सेना प्रमुख की नियुक्ति पर भी नीतीश ने अपना स्टैंड इन दलों से अलग रखा था। 
वहीं जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा पीएम मोदी की जुगलबंदी अब रंग दिखाने लगी है। प्रकाशोत्सव कार्यक्रम में पीएम मोदी और नीतीश की एक-दूसरे की तारीफ के बाद जहां कयासों का बाजार गर्म है। वहीं अब खबर आ रही है कि पीएम नरेंद्र मोदी आगामी 15 जनवरी को पटना में गंगा नदी पर बने गांधी सेतु के जीर्णोद्धार के काम का शुभारंभ करेंगे। 
 
बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी ने बताया कि उत्तर व दक्षिण बिहार की लाइफ लाइन महात्मा गांधी सेतु की ऊपरी सतह के जीर्णांद्धार कार्य का शुभारंभ 15 जनवरी को विडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे। उन्होंने बताया कि केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार 1372 करोड़ रुपये की लागत से प्रतिष्ठित निर्माण कम्पनी एफकॉन 42 महीने में पुल की ऊपरी सतह के जीर्णोद्धार का काम पूरा करेगी। 
 
बता दें कि गांधी सेतु के जीर्णोद्धार का काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बिहार के विधानसभा चुनाव से पहले घोषित विशेष पैकेज का हिस्सा है। ये योजना पिछले 6 महीने से लंबित थी। इस सेतु का उद्घाटन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 1982 में की थी। राजनीतिक हलकों में इस बात को लेकर चर्चा है कि जिस तरीके से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को पटना में प्रकाश पर्व के दौरान जुगलबंदी और एक दूसरे की तारीफ करते नजर आए। इसके बाद ही प्रधानमंत्री पिछले 6 महीने से लंबित इस कार्य को हरी झंडी दिखाने को राजी हो गए।

Leave A comment

यह भी देखेंView All