दरभंगा के जमील करते हैं बॉलीवुड सितारों के लिए जूते डिजाईन

  • 11 Jan, 2017
  • Shashank Kumar

दरभंगा: रणवीर सिंह, रणवीर कपूर, ऋतिक रौशन और शहीद कपूर! डांस करने में माहिर बॉलीवुड कलाकार। करीना, कटरीना और आलिया की डांसिंग के दीवाने तो लाखों हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि डांस करने में माहिर ये सभी सितारे किसके जूते पहनते हैं? आप तमाम बिहारवासियों को

जमील शाह का नाम आजकल किसी भी बॉलीवुड सितारे के लिए अनसुना नहीं है। जमील बॉलीवुड के सभी बड़े सितारों के लिए जूते डिजाईन करते हैं और बनाते हैं। आपको बता दें की जमील डांस को जेहन में रखकर जूते बनाते हैं। देखा जाए तो जमील बॉलीवुड के एकलौते शू डिज़ाइनर हैं जो डांस की बारीकियों को ध्यान में रखकर जूते बनाते और डिजाईन करते हैं।
जूता बनाने से पहले जमील बॉलीवुड स्टार से मिलकर उनसे डांस की पूरी जानकारी लेते हैं। जमील हर गाने और डांस के हिसाब से अलग अलग जूते डिजाईन करते हैं। वैसे तो डांसिंग शूज की दुनिया में आज जमील का बड़ा नाम है लेकिन एक समय ऐसा भी था जब जमील को कई कई दिनों तक भूखा रहना पड़ता था। जमील दरभंगा जिला के दोघरा गाँव के रहने वाले हैं। यह गाँव जले के पास अवस्थित है। जमील के पिता खेती करते हैं और ट्यूशन पढ़ाते हैं। बचपन में घर में किसी बात को लेकर अनबन होने के बाद जमील दिल्ली आ गए और उसके बाद वहां से मुंबई चले गए। मुंबई में जूते बनाने के साथ-साथ जमील डांस भी सीखने लगे। एक बार संदीप से डांस सीखने के दौरान जमील को पता चला की इंडिया में डांसिंग शूज नहीं बनाया जाता है और बॉलीवुड के सभी सितारे विदेशों से डांसिंग शूज मंगाते हैं। जमील को डांसिंग शूज की दुनिया में खुद को साबित करने का अवसर दिखा। फिर क्या था संदीप के कहे अनुसार उसने जूते बनाए। लेकिन जूते संदीप को पसंद नहीं आये। 14वीं बार जब उन्होंने डांसिंग शूज बनाया तो संदीप को जूता पसंद आया।
 
जमील अब शाह शूज के नाम से जूते डिजाईन करते हैं। जमील का कहना है कि कनाडा के वैंकुवर में जो टोएफा अवार्ड समारोह हुआ था उसमे कटरीना और करीना ने इनके बनाए शूज ही पहने थे। वहीं रणवीर के शूज के लिए इनको खासतौर पर दिल्ली बुलाया गया था। जमील को इस बात का अफ़सोस है कि थोड़ी देरी के कारण वो बराक ओबामा को शूज नहीं दे पाए थे जब वो भारत दौरे पर आये थे। मुंबई में अपने काम में व्यस्त रहने के बाद भी जमील अपने गाँव जाना नहीं भूलते हैं। पिछले साल दिसंबर में वो गाँव आये थे। आपको बता दें कि जमील गाँव में एक ट्यूशन इंस्टिट्यूट खोलना चाहते हैं और इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से करवाना चाहते हैं। जमील के फर्श से अर्स तक के सफ़र की कहानी जानने के बाद बिहार के युवक उनसे प्रेरणा ले सकते हैं। जमील का सफ़र युवाओं के लिए एक मिसाल है।

Leave A comment

यह भी देखेंView All