नीक लागे मरद भोजपुरिया ए सखी

  • 12 Jan, 2017
  • priti singh

PATNA: बिहार में पहली बार क्राइम इन बिहार रिपोर्ट तैयार की गई है जिसके अनुसार पटना में शादीशुदा महिलाओं के उत्पीड़न के मामले सबसे अधिक हैं तो वहीं भोजपुर में शून्य।

पत्नी को प्रताड़ित करने के मामले में पटना के पति सबसे जालिम हैं, लेकिन भोजपुरिया हसबैंड बड़े दिलवाले हैं। बिहार में पहली बार क्राइम इन बिहार नाम से रिपोर्ट तैयार की गई है। बिहार पुलिस की स्टेट क्राइम रिपोर्ट ब्यूरो के मुताबिग पटना के पति बहुत बुरे हैं तो वहीं भोजपुर के पति बड़े माई डियर।

पत्नियों को प्रताड़ित करने के मामले में पटना में अपराध का दर सबसे ऊपर है। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की तर्ज पर स्टेट क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की यह पहली रिपोर्ट है। जल्द ही इसे जारी किया जाएगा।

इस रिपोर्ट में वैसे तो अपराध से जुड़े हर पहलू को दिखाया गया है, लेकिन महिलाओं के खिलाफ उत्पीड़न के मामले में दिलचस्प आंकड़े हैं। स्टेट क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की यह रिपोर्ट बताती है कि राजधानी में शादीशुदा महिलाओं पर अत्याचार की स्थिति क्या है।

वहीं इसके उलट भोजपुर के पतियों का जवाब नहीं। पतियों व रिश्तेदारों द्वारा महिलाओं के खिलाफ अत्याचार से जुड़े अपराध में भोजपुर का आंकड़ा शून्य है।

भोजपुर, सीवान और प. चंपारण में ऐसी क्रूरता सबसे कम है। भोजपुर में यह प्रतिशत शून्य है जबकि सीवान में 2.3 और पश्चिम चंपारण में 2.8 फीसदी है।

एससीआरबी की एडीजी प्रीता वर्मा ने रिपोर्ट में लिखा है कि इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए 34 तरह के फार्मेट में सभी जिलों से आकड़े एकत्र किए गए हैं।

यह रिपोर्ट नीति निर्धारकों, प्रशासकों, अपराध का मूल्यांकन करने वालों, अपराध विशेषज्ञों, विभिन्न सरकारी विभागों, मीडिया व एनजीओ के लिए लाभदायक होगी।
बता दें कि साल 2015 में ऐसी क्रूरता के मामले में बिहार में 3792 मामले दर्ज किए गए थे। यह आंकड़ा वर्ष 2014 की तुलना में 18.83 % कम है। 2015 में इस तरह के अपराध के सबसे अधिक 474 मामले पटना में दर्ज किए गए।
 
 

Leave A comment

यह भी देखेंView All