कोर्ट में सरेंडर करने वाला था शौचालय घोटाले का आरोपी, पुलिस ने ऐन वक्त पर किया गिरफ्तार

कोर्ट में सरेंडर करने वाला था शौचालय घोटाले का आरोपी, पुलिस ने ऐन वक्त पर किया गिरफ्तार

By: Sudakar Singh
November 15, 08:11
0
..........

Patna : पटना में शौचालय निर्माण के नाम पर 15 करोड़ रुपये का घोटाला मामले में मंगलवार को एसआइटी को बड़ी कामयाबी मिली। एसआइटी ने घोटाले में लिप्त चौथे एनजीओ मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान बख्तियारपुर के सचिव मनोज कुमार को उस वक्त गिरफ्तार कर लिया, जब वह सिविल कोर्ट में सरेंडर करने जा रहा था। हालांकि एसएसपी मनु महाराज की मानें तो गिरफ्तारी पटना जेसी रोड पर स्थित बीएन कॉलेज के पास से कार में सवार होकर भागने के दौरान हुई।

सादे लिबास में थी पुलिस-

पुलिस सूत्रों की मानें तो एसआइटी की लगातार दबिश का असर रहा कि मंगलवार को मनोज कुमार सिविल कोर्ट में सरेंडर करने पहुंचा था। पुलिस को इस बात की भनक लग चुकी थी। एसआइटी की टीम कोर्ट के बाहर कुछ दूरी पर सादे लिबास में खड़ी थी। मनोज जैसे ही कार से कोर्ट पहुंचा, एसआइटी ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने कार भी जब्त कर ली है।

क्या है मामला-

बता दें कि मामले में तीन नवंबर को गांधी मैदान थाने में पीएचईडी के तत्कालीन कार्यपालक अभियंता विनय कुमार सिन्हा, रोकड़पाल बिटेश्वर प्रसाद, डाटा इंट्री ऑपरेटर प्रीति भारती सहित एनजीओ आदि शक्ति सेवा संस्थान के उदय सिंह, सुमन सिंह, मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान बख्तियारपुर के सचिव मनोज कुमार, कोषाध्यक्ष प्रमिला सिंह, अध्यक्ष बॉबी कुमारी, सत्य शिवम कला केंद्र के महेंद्र कुमार, शिव सेवा संस्था के अध्यक्ष शिवशंकर राय, सचिव कालीचरण, कोषाध्यक्ष महेश प्रसाद सहित एक अन्य के खिलाफ केस दर्ज हुआ था।

पुलिस अब तक तत्कालीन सहायक शाखा प्रबंधक एसबीआइ एसके झा, डाटा इंट्री ऑपरेटर प्रीति भारती और मां सर्वेश्वरी सेवा संस्थान की अध्यक्ष बॉबी कुमारी के पति प्रवीण कुमार शर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। मामले में मनोज कुमार की चौथी गिरफ्तारी हुई है।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments