सामाजिक कुरीतियों के खात्मे की जरूरत : डीएम

सामाजिक कुरीतियों के खात्मे की जरूरत : डीएम

By: Prateek Kumar
January 13, 09:01
0
...

DARBHANGA :  जिला पदाधिकारी डॉ. चंद्रशेखर ¨सह की अध्यक्षता में 21 जनवरी को बाल विवाह एवं दहेज प्रथा उन्मूलन के समर्थन में बनने वाले ''मानव श्रृंखला'' की सफलता हेतु वार्ड पार्षद्गणों, सरकारी एवं निजी विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों के साथ वातावरण निर्माण हेतु समाहरणालय अवस्थित बाबा साहेब डॉ0 भीमराव अम्बेदकर सभागार में बैठक आहूत की गई।

डीएम ने बाल विवाह एवं दहेज प्रथा जैसी सामाजिक कुरीति एवं बुराई को दूर करने हेतु विद्यालयों में वातावरण निर्माण की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि यह बेटियों की सुरक्षा एवं नारी सम्मान से जुड़ा हुआ है। उन्होनें विद्यालयों में छात्र व छात्राओं को इन दोनों कुरीतियों के समाज पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों के बारे में विस्तार से बताने का निदेश दिया। ताकि बच्चों के मन, मस्तिष्क पर इस अभियान की महत्ता अंकित हो सके। बीमार, बूढ़े एवं गर्भवती महिलाओं को मानव श्रृंखला में सम्मिलित नहीं करने का अनुरोध किया गया। बाल विवाह से लड़कियों के शारीरिक एवं मासिक क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। दहेज प्रथा के कारण महिलाओं के आत्मसम्मान को ठेस पहुंचता है। जिला पदाधिकारी ने बताया कि ईश्वर चंद्र विद्या सागर एवं राजा राम मोहन राय ने इन कुरीतियों को दूर करने हेतु अथक प्रयास किया था।

आज जरूरत है फिर से इन कुरीतियों को दूर करने हेतु व्यापक जन-जागरण के जरिए अभियान चलाया जाए। यातायात परिचालन हेतु अलग से व्यापक दिशा निदेश देने की भी बात बताई गई। आमलोगों के सहयोग से प्रत्येक रूट पर पेयजल की व्यवस्था की जाएगी। वातावरण निर्माण हेतु विद्यालयों में भी विभिन्न तरह के कार्य-कलाप जिसमें - संबंधित विषय पर पे¨टग बनाना, वाद-विवाद प्रतियोगिता करना, रंगोली बनाना आदि जैसे कार्यक्रमों को करवाने की सलाह दी गई। बैठक में विभिन्न पार्षद्गणों एवं विद्यालयों के प्रधानाध्यापकगणों ने अपने-अपने विचार रखे।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments