ग्लोबल वार्मिंग से हो सकता विनाश : कुलपति

ग्लोबल वार्मिंग से हो सकता विनाश : कुलपति

By: Prateek Kumar
January 13, 09:01
0
...

DARBHANGA :   ग्लोबल वार्मिंग, जलवायु परिवर्तन, असमय बाढ- सुखाड, कुहासा का आना पर्यावरण प्रदूषण के कारण हो रहे हैं। यदि समय रहते इस समस्या के प्रति गंभीर नहीं हुए तो आनेवाली पीढी का अस्तित्व संकट में पर जाएगा। पृथ्वी का विनाश अवश्यसंभावी है।

त्रिदिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का उद्घाटन संबोधन में एमएलएसएम कॉलेज में लनामिविवि के कुलपति प्रो. एसके ¨सह ने ये बातें कहीं। सेमिनार के दूसरे सत्र में ई. मानस बिहारी वर्मा ने पावर प्वाइंट के माध्यम से ग्रीन केमिस्ट्री की विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला व प्रदूषण से होने वाले संभावित खतरों से परिचय कराया। नवयुवकों को इस समस्या के समाधान के लिए आगे आने की अपील की। अध्यक्षीय संबोधन में प्रधानाचार्य डॉ. मुस्ताक अहमद ने ग्रीन केमेस्ट्री पर इस सेमिनार को उपयोगी बताया। अतिथियों का स्वागत व विषय प्रर्वतन सेमिनार के संगठन सचिव रसायन विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रो. प्रेम मोहन मिश्र ने किया। उन्होंने कहा कि पहली सदी से आज की सदी के रहन-सहन व सुख सुविधा की तुलना करने से रसायन विज्ञान के चमत्कार का अंदाजा लगाया जा सकता है। छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष प्रो. भोला चौरसिया ने भी ग्रीन केमिस्ट्री की महता पर प्रकाश डाला। बनारस हिन्दू विवि से आए मुख्य अतिथि डॉ. विनोद कुमार तिवारी ने कहानियों के माध्यम से कहा कि हर आदमी को अपना योगदान सुनिश्चित करना चाहिए।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments