अब बिहार में कचरे की भी होगी कीमत, इससे बिजली बनाकर शहर को किया जाएगा रौशन

अब बिहार में कचरे की भी होगी कीमत, इससे बिजली बनाकर शहर को किया जाएगा रौशन

By: Sudakar Singh
September 14, 02:25
0
......................

Live Bihar Desk : अब बिहार में कचरे का सही प्रयोग किया जाएगा। कचरे से बिजली बनाया जाएगा। इसके लिए कंपनी को टेंडर भी दे दिया गया है। जानकारी कें मुताबिक रामाचक बैरिया में कचरा से बिजली और ईंधन का उत्पादन करने की तैयारी है। इसके लिए वेस्ट टू एनर्जी प्लांट लगाया जाएगा। प्लांट लगाने के लिए एजी डाउटर्स वेस्ट प्रोसेसिंग प्राइवेट लिमिटेड को टेंडर भी दिया गया है। निगम इस एजेंसी के साथ 30 दिनों के अंदर एमओयू करेगा। सशक्त स्थायी समिति की एमओयू पर मुहर भी लग चुकी है।

इस संबंध में मेयर सीता साहू ने कहा कि वर्क अवार्ड होने के बाद प्लांट लगाने का काम नवंबर से शुरू होगा। इसके लिए एजेंसी निगम से कचरा खरीदेगा। इसकी कीमत 770 रुपए प्रति मीट्रिक टन होगी। प्लांट तक कचरा ले जाने के लिए निगम को कोई पैसा देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। एजेंसी खुद छह ट्रांसफर स्टेशन बनाएगी और वहां से कचरा रामाचक बैरिया ले जाएगी। कचरे से 25-30 करोड़ रुपया निगम के खाते में आएगा। बैठक में डिप्टी मेयर विनय कुमार पप्पू व नगर आयुक्त अनुपम कुमार सुमन भी थे।

नगर निगम के मृत पदाधिकारियों, कर्मचारियों के आश्रितों को अब आजीवन पारिवारिक पेंशन का लाभ मिलेगा। इसकी स्वीकृति सशक्त स्थायी समिति की बैठक से गुरुवार को मिल गई है। पेंशन का लाभ एक अक्टूबर से मिलने लगेगा। जिन आश्रितों का पेंशन पांच वर्ष के बाद रोका गया है और वे वर्तमान में जीवित हैं, उनका पेंशन इस शर्त पर लागू किया जाएगा कि भविष्य में कभी पूर्व के वित्तीय लाभ का दावा नहीं करेंगे। इसका शपथ पत्र भी उन्हें देना होगा।

डिप्टी मेयर ने कहा कि संविदा पर अभियंताओं की नियुक्ति के प्रस्ताव पर विभाग ने रोक लगा दी है। यह प्रस्ताव 24 अगस्त, 2018 को सशक्त स्थायी समिति की बैठक में पारित किया गया था। विभाग द्वारा रोक लगाए जाने पर समिति के सदस्यों ने नाराजगी जताई।  डिप्टी मेयर ने बताया कि यह निगम की स्वायत्तता पर प्रश्न है। इसके खिलाफ कोर्ट जाएंगे। निगम ने बिहार नगरपालिका अधिनियम के तहत संविदा पर अभियंताओं की नियुक्ति का प्रस्ताव पास किया है। ज्ञात हो कि 7 अगस्त को नगर विकास एवं आवास विभाग को पत्र लिखकर रिक्त पदों पर बहाली की मांग की गई थी। अधीक्षण, कार्यपालक, सहायक और कनीय अभियंता के कुल 105 स्वीकृत पद हैं, जिनमें 100 पद रिक्त हैं।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments