कहीं अधूरा न रह जाए दारोगा बनने का सपना, अंतिम रिजल्ट पर लगी रोक हटाने से HC का इनकार

कहीं अधूरा न रह जाए दारोगा बनने का सपना, अंतिम रिजल्ट पर लगी रोक हटाने से HC का इनकार

By: Sudakar Singh
September 14, 03:50
0
...................

Live Bihar Desk : बिहार में दारोगा के पद पर की जाने वाली 1717 नियुक्तियों के परिणाम पर पटना हाईकोर्ट ने तत्काल प्रभाव से लगी रोक को हटाने से इनकार किया है। कोर्ट ने यह रोक दारोगा भर्ती परीक्षा की प्रकिया के दौरान प्रारंभिक एवं मुख्य परीक्षा में अनियमितता के आरोप को लेकर दायर रिट याचिका पर सुनवाई करते हुए लगाई है।

इस मामले में राज्‍य सरकार और बिहार पुलिस सबऑर्डिनेट सर्विस कमीशन द्वारा अदालत से बहाली प्रक्रिया पर पूर्व से लगी रोक को हटाने का अनुरोध किया, अदालत ने रोक हटाने से इनकार किया। अदालत ने कहा कि इस बीच भर्ती प्रक्रिया की कार्रवाई जारी रहेगी, लेकिन इसका अंतिम परिणाम जारी नहीं किया जाएगा। न्यायाधीश शिवाजी पांडेय की एकलपीठ ने रमेश कुमार एवं अन्य 195 उम्मीदवारों की ओर से दायर रिट याचिका पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया। अगली सुनवाई 18 सितंबर को होगी। 

इससे पहले दारोगा के 1717 पदों पर नियुक्ति प्रक्रिया के अंतिम परिणाम पर पटना हाईकोर्ट ने तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। न्यायाधीश शिवाजी पांडेय की एकलपीठ ने दारोगा बहाली के लिए ली गयी प्रारंभिक और मुख्य लिखित परीक्षा में कथित अनियमितता और गड़बड़ी को लेकर दायर रिट याचिका पर बुधवार को सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। साथ ही इस मामले में राज्य सरकार और बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग से एक सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा गया है। हालांकि अदालत ने कहा कि इस बीच भर्ती प्रक्रिया की कारर्वाई जारी रहेगी, लेकिन इसका अंतिम रिजल्ट जारी नहीं किया जाएगा।

रमेश कुमार एवं अन्य 195 अभ्यर्थियों ने लिखित परीक्षा में अनियमितता और गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए रिट याचिका दायर की है। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता चक्रपणी और रोजेश भारद्वाज ने अदालत को बताया कि  प्रारंभिक व मुख्य लिखित परीक्षा के परिणाम घोषित करने से पहले आरक्षण के प्रवधानों का पालन नहीं किया गया है। प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा के परिणाम में काफी गड़बड़ी की गयी है।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें।
comments