मधेपुरा के लाल का कमाल, बनाया अनोखा डिवाइस, चोर के घुसते ही बजने लगेगा अलार्म

quaint media

PATNA : इंसान की प्रतिभा रुपये और संसाधन की मोहताज नहीं होती। जरूरत होती है तो सिर्फ जुनून और दृढ़ इच्छा शक्ति की। इस बात को साबित किया है मधेपुरा के एक छात्र ने। जो शिवानंद उच्च माध्मिक विधालय में नवीं का छात्र है। इसने एक ऐसा गैजेट तैयार किया है जो घर में आने वाले चोर को दूर से ही पहचान जाएगा। नवीं क्लास में पढ़ने वाले छात्र आंनद विजय ने एक ऐसा रिमोट सेंसर लॉक बनाया है, जो चोरों से निजात दिला सकता है। इस गैजेट की खासियत यह है कि कोई चोर जैसे ही दरवाजा तोड़ने का प्रयास करता है, वैसे ही रेड लाइट जलने के साथ-साथ अलार्म बजने लगता है। मोबाइल पर फोन भी आ जाता है।

घर में लगाया गया गेट भी खास तरीके का होगा। जिस गेट में इसे सेट किया जाता है उसमें ना तो हैंडल और न ही ताला लगता है। इस गेट को बाहर से ही रिमोट से दबाने पर गेट ओपेन हो जाता है। गेट तोड़ने या खोले जाने पर मोबाइल बज उठेगा। अगर घर का मालिक किसी परिस्थिति में फोन नहीं उठा पा रहे है तो वो मोबाइल लगातार बजता रहेगा। पहली बार में 5 सेकण्ड और दूसरी बार में एक मिनट के बाद लगातार कॉल जाती रहेगी।

quaint media

इस लॉक की दूसरी खासियत यह है कि अगर किसी परिस्थिति में घर के अंदर इलेक्ट्रिक शॉट या गैस से आग लगती है तो लॉक गेट अनलॉक हो जाता है। जिससे घर मे फंसे लोग आसानी से बाहर निकल सकते हैं। यह उपकरण आमतौर पर बिजली और इन्वर्टर से चलता है। इस उपकरण में लगा पिआईआर सेंसर जिसके द्वारा घर में अगर कोई व्यक्ति मौजूद नहीं रहते हैं या कहीं चले जाते हैं, तो इस उपकरण से बिजली कट जाती है। दोबारा घर के अंदर कोई प्रवेश करता है तो यह उपकरण दोबारा चालू हो जाता है। जिससे बिजली की बचत भी होती है।

आनंद का मानना है कि हम जपान और अमेरिका से कहीं पीछे नहीं हैं। सिर्फ सरकार की मदद चाहिए। वहीं, इनके माता पिता काफी खुश हैं। इनका मानना है कि बचपन से ही यह नटखट था किसी वस्तु को बनाने और खराब करने में लग जाता था। अब हमलोंगो को इसपर गर्व है। लेकिन इस छात्र को जिला प्रशासन द्वारा आज तक सम्मानित नहीं किया गया।