ED की जांच में बड़ा खुलासा, बिहार के गया में नोटबंदी के दौरान 11 करोड़ का हुआ घो’टाला

PATNA : प्रवर्तन निदेशालय ने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि 2016 में हुई नोटबंदी को दौरान गया जिले में 10 लोगों ने मिल कर 10.93 करोड़ की ब्लैक मनी ख’पाई थी। यह मामला गया में बैंक ऑफ इंडिया की जीबी रोड शाखा से जुड़ा है।

आपको बता दें कि ईडी की जांच में पता चला है कि 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के बाद बैंक के अफसर व कर्मियों की मिलीभगत से व्यवसायियों ने 500 व 1000 रुपए के पुराने नोट को खपाया था। आरोपों के घेरे में कुल 10 आरोपी हैं जिनमें 4 बैंककर्मी व 6 व्यवसायी शामिल हैं।

काले धन को खपाने के लिए बेनामी खातों का इस्तेमाल किया गया था। जीबी रोड ब्रांच में 5 खातों में 10.93 करोड़ के पुराने नोट जमा कराए गए थे। फिर दूसरे बैंकों में मां तारा एजेंसी (मुजफ्फरपुर) व हरि कृपा (नई दिल्ली) के खातों में ट्रांसफर करके निकासी कर ली गई। जिन खाताधारकों के खाते में करोड़ों की रकम जमा कराई गई थी, उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी।

नोटबंदी के बाद ये खाते खोले गए थे। ज्ञात करा दें कि दिसंबर 2016 में आयकर विभाग की टीम ने गया में बैंक के ब्रांच से लेकर पटवा के ठिकानों तक छापेमारी की थी। काले धन के बारे में सबूत मिलने के बाद यह मामला ईडी के पास पहुंचा था।