10 जनवरी को साल का पहला चन्द्र ग्रहण, पति-पत्नी का संबंध बनाना है वर्जित

Patna : साल 2020 का पहला ग्रहण जनवरी में ही लगने जा रहा है। ये चंद्र ग्रहण होगा जो 10 जनवरी की रात से शुरू होकर 11 जनवरी तक रहेगा। खास बात ये है कि ये ग्रहण भारत में भी दिखाई देगा। इसके अलावा साल में 3 और चंद्रग्रहण लगेंगे और 2 सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2020) भी होंगे। यानी कि कुल मिलाकर 6 ग्रहण साल 2020 में लगने वाले हैं। इस चंद्रग्रहण का नजारा भारत के अलावा अफ्रीका, एशिया, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में भी देखा जा सकेगा।

ग्रहण प्रारंभ- 10 जनवरी 2020 को रात 10.39 बजे से,
ग्रहण समाप्ति- 11 जनवरी 2020 की मध्यरात्रि 2.20 बजे तक,कुल अवधि- करीब 4 घंटे। कहां दिखेगा- भारत, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया।सूतक प्रारंभ- 10 जनवरी को दोपहर 1:39 बजे से सूतक समाप्त- 11 जनवरी मध्यरात्रि 2.20 बजे पर

किस राशि और नक्षत्र पर लगेगा चंद्र ग्रहण: इस बार का चंद्र ग्रहण उपच्छाया चंद्र ग्रहण होगा। इस ग्रहण के दौरान चंद्रमा मिथुन राशि में होगा और नक्षत्र पूर्नवसु रहेगा। ज्योतिष अनुसार ग्रहण जिस राशि और नक्षत्र पर लगता है उन राशि और नक्षत्र में जन्मे लोगों पर इसका सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है। इस कारण मिथुन राशि और पूर्नवसु नक्षत्र के लोगों को चंद्र ग्रहण के समय विशेष ध्यान देने की जरूरत पड़ेगी। बेवजह की परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं।

सूतक काल: साल का पहला चंद्र ग्रहण करीब 4 घंटे के लिए लग रहा है। भारत में इस ग्रहण के दिखाई देने की वजह से यहां सूतक काल के नियमों का पालन भी होगा। सूतक काल ग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जायेगा। धार्मिक मान्यताओं अनुसार सूतक में किसी भी तरह के शुभ काम नहीं किये जाते। यहां तक कि कई मंदिरों के कपाट भी सूतक के समय में बंद कर दिये जाते हैं। जानिए चंद्र ग्रहण के सूतक काल में क्या बरतें सावधानी…