अरुण जेटली ने पाक PM को दिया करार जवाब- खुद जैश ए मोहम्मद ने ली जिम्मेदारी और क्या सबूत चाहिए

New Delhi: जम्मू कश्मीर में हुए पुलवामा आतं’की हमले में पाकिस्तान का हाथ नहीं बताने पर मोदी सरकार के मंत्री अरुण जेटली ने पाकिस्तान पीएम को करारा जवाब दिया है, जिसमें उन्होंने कहा कि पुलवामा में हमले के बाद खुद आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने जिम्मेदारी ली। ऐसे में उन्हें इससे ज्यादा क्या सबूत चाहिए।

मालूम हो कि आज पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने प्रेस कांफ्रेस करके कहा था कि मैं भरोसा दिलाता हूं। ये नया पाकिस्तान है और हम हर तरह की जांच प्रक्रियाओं में भारत की सहायता करेंगे। अगर भारत सबूत पेश करें।

QUAINT MEDIA

गौरतलब है कि इस वक्त पुलवामा की घटना के बाद पूरे देश मे ंगुस्सा है। हालांकि बड़ी तदाद में लोग श’हीद हुए जवानों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं। इसी बीच पुलवामा आतंकी हमले के शिकार सीआरपीएफ के शहीद जवानों के आश्रितों को झारखंड के 104 आइपीएस अधिकारी भी मदद करेंगे। सोमवार को पुलिस मुख्यालय में हुई बैठक में आइपीएस एसोसिएशन ने यह निर्णय लिया कि वे एक दिन का अपना वेतन शहीदों के आश्रितों को देंगे। पैसा एक साथ सीआरपीएफ को आइपीएस एसोसिएशन की ओर से दिया जायेगा। यह जानकारी पुलिस प्रवक्ता आइजी आशीष बत्रा ने दी। बता दें कि प्रदेश में आइपीएस के 149 पद हैं, फिलवक्त 104 आइपीएस ही झारखंड कैडर में हैं।

बताते चले कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों की वास्तविक सूची सीआरपीएफ थोड़ी देर बाद जारी करने की तैयारी में है।जवानों के नाम जारी किये जाने में देरी की वजह कई शवों का क्षत विक्षत होना है इस वजह से उनकी पहचान में देरी हुई। सूत्र बता रहे हैं कि इस आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों का आंकड़ा 41 के करीब पहुंच गया है।

हालांकि आधिकारिक तौर पर सीआरपीएफ ने 37 जवानों के शहीद होने की ही पुष्टि की है। सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी की बैठक में आज यानी शुक्रवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ सीआरपीएफ के डीजी भी शामिल होंगे, जो हालात के बारे में अवगत कराएंगे। बैठक खत्म होने के बाद करीब 12 बजे गृहमंत्री और सीआरपीएफ के डीजी श्रीनगर के लिये रवाना हो जाएंगे। श्रीनगर में हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धाजलि दी जाएगी। उसके बाद सारे शवों को एक विशेष विमान से गाजियाबाद के हिंडन एयर बेस लाया जाएगा। यहीं से जिस इलाके के जवान है वहां शव भेजे जाएंगे। उत्तर प्रदेश से करीब 10 से 12 और पंजाब से 4-5 जवान है, बाकी राज्यो से एक दो जवान है।