अयोध्या केस: सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती दी जा सकती है- ओवैसी

PATNA: देश में इस समय सबसे ज्यादा चर्चा अयोध्या केस को लेकर हो रही है। देश की सर्वोच्च न्यायालय आज इस केस का फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा है कि रामलला का दावा बरकरार। 3 महीने के अंदर ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया गया है। वहीँ इस फैसले पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कोर्ट के फैसले पर असहमति जताई है।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती दी जा सकती है। वहीँ उन्होंने मुस्लिम पक्ष को दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन को न लेने की भी बात कही। मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन खरीदी भी जा सकती थी।

ओवैसी ने कहा कि हम अपने कानूनी हक़ के लिए लड़ रहे थे। तथ्यों पर आस्था की जीत हुई है। 5 एकड़ जमीन की खैरात नहीं चाहिए।

बता दें मुस्लिम पक्ष की ओर से वकील जफरयाब जिलानी ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संतुष्ट नहीं हैं।अयोध्या मामले का फैसला विरोधाभासी है। हम पुनर्विचार की मांग करेंगे। इसी के साथ ही उन्होंने आगे कहा कि कोर्ट के पूरे फैसले को पढ़ने के बाद रणनीति बनाएँगे।