काफिला रोकने पर एसडीएम पर भड़के अश्विनी चौबे, बोले – किसकी माँ की मजाल है जो गेट बंद कर दे

PATNA : केन्द्रीय मंत्री और बक्सर से सांसद अश्विनी चौबे शनिवार शाम बक्सर के एसडीएम केके उपाध्याय से उलझ गए और दोनों के बीच बहस हो गई। एसडीएम मंत्री को लगातार क़ानून उल्लंघन की बता बताते रहे लेकिन अश्विनी चौबे कुछ सुनने की बजाये उन्हें भलाबुरा कहते रहे। अश्विनी चौबे को रौब में देखकर बाकी पार्टी कार्यकर्त्ता भी तैश में आ गए और नारेबाजी करते हुए किला मैदान के बंद गेट को खुलवा दिया। 

दरअसल पूरा मसला ये है कि जब अश्विनी चौबे किला मैदान से बाहर निकलने लगे तो एसडीएम ने उन्हें रोक दिया।  इससे अश्विनी चौबे तैश में आ गए और गाडी के अन्दर से ही चिल्लाते हुए बोले – क्या बात है बोलो ? एसडीएम बोले कि बिना इजाजत वाली गाड़ियों को जब्त करना है तो अश्विनी चौबे चिल्लाते हुए बोले किसकी मां की मजाल है कि गेट बंद कर दे? इसपर एसडीएम ने कहा कि चुनाव आयोग का आदेश है। तो अश्विनी चौबे बोले मुझे हथकड़ी लगवाओगे, लो लगा दो। खबरदार तमाशा मत करिए आप लोग। उन्होंने कहा मेरी गाड़ियाँ हैं इसे जब्त नहीं कर सकते हो।

गौरतलब है कि एनडीए की विजय संकल्प रैली में भाजपा और सहयोगी दलों के नेता 30-40 गाड़ियों के साथ पहुंचे थे। जिला प्रशासन ने इतनी गाड़ियों की मंजूरी नहीं दी थी। एसडीएम ने गाड़ियों वीडियोग्राफी करवाई है। उन्होंने कहा कि आजार संहिता का मामला दर्ज कर कानूनी कारवाई होगी। बक्सर अश्विनी चौबे का संसदीय क्षेत्र है और यहाँ से वो दोबारा उम्मीदवार बनाये गए हैं।