जिस किताब में लगे राम मंदिर के नक्शे को बाबरी मस्जिद के वकील ने फाड़ा, उसका लेखक है एक बिहारी

PATNA : भारत की सर्वोच्च अदालत में आज सबसे चर्चित अयोध्या मामले की सुनवाई खत्म हो गयी है। कोर्ट की कार्यवाही के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने हिन्दू महासभा के वकील विकास सिंह द्वारा एक किताब में पेश किए गए एक नक्शे को फा’ड़ दिया और उसके पांच टुकड़े कर दिए। ये किताब बिहार के पूर्व आइपीएस अधिकारी रहे किशोर कुणाल ने लिखी है और ये 2016 में प्रकाशित की गई थी।

बता दें कि बुधवार को जब सुनवाई के दौरान हिन्दू महासभा की ओर से वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने दलीलें देनी शुरू की तो मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन के साथ उनकी तीखी बहस हुई।

पूर्व आइपीएस अधिकारी किशोर कुणाल

उल्लेखनीय है कि हिंदू महासभा के वकील विकास सिंह ने बिहार के पूर्व आइपीएस अधिकारी रहे किशोर कुणाल की किताब का हवाला देते हुए कहा कि हम ‘अयोध्या रीविजिट’ किताब कोर्ट के सामने रखना चाहते हैं जिसे रिटायर आईपीएस किशोर कुणाल ने लिखा है। इसमें राम मंदिर के पहले के अस्तित्व के बारे में लिखा है। किताब में हंस बेकर का कोट है और चैप्टर 24 में लिखा है कि जन्मस्थान के वायु कोण में रसोई थी। वकील विकास सिंह ने कोर्ट को किशोर कुणाल की किताब में संलग्न नक्शा दिखाया, लेकिन मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन को ये नागवार गुजरा और उन्होंने कोर्ट के भीतर ही नक्शे के पांच टुकड़े कर दिए।