बिहार के समस्तीपुर जिले की कोमल फुटबॉल में भारत के प्रतिनिधित्व का सपना संजो रखी हैं

QUAINT MEDIA

Patna: बिहार के समस्तीपुर जिले के दलसिंहसराय की कोमल फुटबाल के जरिए अपनी सफलता की कहानी लिख रही है। कई तरह की बाधाओं और विरोध का सामना करने के बाद उसने फुटबॉल के क्षेत्र में एक मुकाम हासिल की है। कोमल की खेल की प्रतिभा को देखते हुए बिहार सरकार ने कोमल को वर्ष 2016 बिहार खेल सम्मान से सम्मानित किया था। कोमल ने अपनी खेल प्रतिभा के दम पर नेशनल महिला फुटबॉल प्रतियोगिता में कई बार बिहार टीम का हिस्सा बनकर अपनी खेल प्रतिभा का लोहा मनवा चुकी है। आज भी कोमल इस खेल को जारी रख भारत की प्रतिनिधित्व करने का सपना संजो रही है।

कोमल की मां रेणु देवी अनुमंडलीय अस्पताल में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी हैं, वहीं पिता महेन्द्र कुमार किसान हैं। वह फुटबाल खेल के माध्यम से अपने परिवार को खुशियां प्रदान कर उन्होंने गौरवान्वित कर रही है। दलङ्क्षसहसराय जैसे छोटे शहर में रह रही कोमल बेटियों और उसके अभिवावकों के लिए एक प्रेरणा प्रदान कर रही है। वह अपनी प्रतिभा से लोगों को यह संदेश दे रही कि बेटियों को कमजोर समझ कर घरों में नहीं रखें। कोमल को भी फुटबॉल खेल के दौरान समाज के उन लोगों के कोपभाजन का शिकार होना पड़ा था जो बेटियों के लिए फुटबाल या कोई और खेल को खराब समझ कर उससे दूर रहने की बात करते हैं।

QUAINT MEDIA

लेकिन कोमल की मां और कोच मुकुश राय के सहयोग से आज कोमल फुटबॉल के जरिए अपने जिला और प्रदेश का नाम रौशन कर रही है। कोमल कहती है कि मेरे लिए फुटबाल खेलना आसान नही था, परंतु मेरी मां और भाई का भरपूर सहयोग और कोच मुकेश राय का मार्गदर्शन के बदौलत ही आज कुछ पा रही हूं। मेरी इच्छा है कि मैं देश के महिला फुटबॉल टीम का हिस्सा बन कर देश का नाम रौशन करूं।