भागलपुर के सदर अस्पताल में डॉक्टरों की लापरवाही, आधी डिलिवरी कर लेबर रूम से निकाल दिया बाहर

PATNA : भागलपुर के सदर अस्पताल (BHAGALPUR SADAR HOSPITAL) से डॉक्टरों की बड़ी लापरवाही सामने आई है। डॉक्टरों की लापरवाही के चलते अस्पताल में एक गर्भवती महिला को करीब 9 घंटे तक प्रसव की पीड़ा को सहना पड़ा। नर्सों ने महिला की आधी डिलीवरी  कर लेबर रूम से बाहर निकाल दिया। नर्सों की इस लापरवाही के चलते महिला को अपने बच्चे से हाथ धोना पड़ा। 

गर्भवती महिला को को जब अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टरों ने उसे देखा तक नहीं। महिला की डिलीवरी को लेकर अस्पताल की नर्सों ने कोशिश की। इस दौरान शिशु का एक पैर और नाभी कॉड बाहर भी आया, लेकिन नर्सों से प्रसव नहीं हो सका। नर्सों ने आधी डिलीवरी में ही महिला काे लेबर रूम से बाहर निकाल दिया गया। जिसके बाद आशा उसे निजी क्लीनिक ले गई। वहां डॉक्टर ने सिर्फ कुछ ही मिनटों में ही महिला की नॉर्मल डिलीवरी करवा दी।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

 

महिला के परिजन ने इस माले को लेकर अस्पताल प्रशासन पर खासकर नर्सों पर कमीशनखोरी का बड़ा आरोप लगाया। मामले को लेकर गर्भवती महिला के परिवारवालों का कहना था कि 3 महिला और 7 पुरुष डॉक्टराें की तैनाती वाले अस्पताल में नर्सों ने किसी डॉक्टर को क्यों नहीं बुलाया? पीड़ित महिला के परिवारवालों की शिकायत है कि सदर अस्पताल में गुरुवार से शुक्रवार सुबह तक कोई डॉक्टर मजूद नहीं था। जिसके चलते मरीज का इलाज नहीं हुआ।

परिजनों का कहना है कि जब सब हाथ से निकल गया तो निजी क्लीनिक में भेज दिया गया। इस दौरान परिजनों ने आरोप लगाया कि शिकायत करने के लिए हेल्थ मैनेजर भी नहीं थे। साथ ही किसी का मोबाइल नंबर भी कर्मचारियों ने नहीं दिया। निजी अस्पताल में डिलिवरी के समय जैसे-तैसे महिला की जान तो बचा ली गई लेकिन लापरवाही से शिशु की जान चली गई।