विश्वविद्यालयों में 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम के खिलाफ आज सम्पूर्ण विपक्ष का भारत बंद

PATNA :देश के विश्वविद्यालयों में 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम के खिलाफ संविधान बचाओ संघर्ष समिति ने अज भारत बंद का आयोजन किया है जिसे राजद, रालोसपा, हम सहित कई विपक्षी पार्टियों ने अपना समर्थन दिया है। दलितों और आदिवासियों के संगठनों ने भी बंद को अपना समर्थन देने की घोषणा की है। राजद ने 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम के विरोध के अलावा न्यायपालिका में आरक्षण और आउटसोर्सिंग में भी आरक्षण की मांग करते हुए भारत बंद को अपना समर्थन देने की घोषणा की है। 

राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ने कहा कि पार्टी के सभी कार्यकर्ता बंद में सक्रीय रूप से भाग लेंगे साथ ही उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया कि किसी भी परीक्षार्थी को बंद के दौरान रोका या परेशान  न किया जाए। विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि भाजपा दिन दहाड़े पिछड़ों और वंचितों का आरक्षण ख़त्म कर रही है। ये लोग संविधान को नहीं बल्कि मनुस्मृति को माने वाले लोग हैं। निजी क्षेत्र में आरक्षण लागू नहीं किया गया और जहाँ आरक्षण लागू है वहां से 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम के जरिये आरक्षण को ख़त्म किया जा रहा है। सीपीआई और सीपीएम ने भी बंद को अपना समर्थन देने की घोषणा की है।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives, Live Bihar

क्या है 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम : देश के सभी विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति में आरक्षण की व्यवस्था 200 पॉइंट रोस्टर सिस्टम पर आधारित थी। इस व्यवस्था में यूनिवर्सिटी को एक यूनिट माना गया था और 1 से 200 तक पदों की नियुक्ति में आरक्षण लागू हुआ। आरक्षित वर्ग के लिए 49.5 फीसदी और अनारक्षित वर्ग के लिए 50.5 फीसदी सीटें इसी सिस्टम से भरने की व्यवस्था हुई थी लेकिन इलाहबाद हाई कोर्ट ने इस व्यवस्था को ख़त्म कर 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम लागू कर दिया।

13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम में विश्वविद्यालय को एक यूनिट मानने की बजाये विश्वविद्यालय के विभाग को एक यूनिट माना जाता है और भर्ती की प्रक्रिया पूरी की जारी है। इस सिस्टम में पहली, दूसरी, तीसरी पोस्ट सामान्य वर्ग के लिए, चौथी पोस्ट ओबीसी के लिए फिर पांची और छठी पोस्ट सामान्य वर्ग के लिए उसके बाद सातवी पोस्ट एससी और आठवां पोस्ट ओबीसी के लिए, नौवां, दसवां और ग्यारहवीं पोस्ट सामान्य वर्ग के लिए, बारहवीं पोस्ट ओबीसी के लिए फिर त्व्रास्वी पोस्ट सामान्य वर्ग के लिए और उसके बाद चौदहवी पोस्ट एससी के लिए होती है। खुद को पिछड़ों की पार्टी बताने वाली राजद जैसी पार्टियाँ केंद्र पर आरोप लगाती रही हैं कि 13 पॉइंट रोस्टर सिस्टम के जरिये पिछड़ों का आरक्षण धीरे धीरे ख़त्म किया जा रहा है।