11 साल बाद बांग्लादेश की जे’ल से हिन्दुस्तान आएगा बिहार का बेटा

PATNA : बिहार का रहने वाला सतीश चौधरी 11 सालों से बांग्लादेश की जे’ल में बं’द था लेकिन अब उसे वतन वापस लाया जा रहा है। भारत-बांग्लादेश बॉ’र्डर पर सतीश को उसके परिजनों को सौंप दिया गया। फिलहाल स्थानीय प्रशासन सतीश का मेडिकल चे’कअप करवा रहा है। मेडिकल परीक्षण के बाद सतीश अपने घर जा सकता है। उसकी वापसी से पूरे परिवार में ख़ुशी का माहौल है। गाँव के लोग उसका स्वागत करने के लिए उत्सुक हैं।

आपको बता दें कि 2008 में मानसिक तौर पर बी’मार सतीश चौधरी इलाज के लिए पटना आया था और फिर अचानक गायब हो गया। बाद में 2012 में जानकारी मिली कि वह बांग्लादेश की जे’ल में बं’द है। अपने भाई को छुड़ाने के लिये सतीश के छोटे भाई मुकेश चौधरी ने सालों साल प्रयास किया। 2012 में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मुलाकात की थी लेकिन अब उसे सफलता हाथ लगी है।

बां’ग्लादेश की सरकार ने ढा’का स्थित हाई कमीशन ऑफ इंडिया को सूचित किया है कि 12 सितंबर को दर्शना गे’डे बा’र्डर पर बा’र्डर गा’र्डस बांग्लादेश , सतीश चौधरी को बा’र्डर सिक्यो’रिटी फो’र्स (B’SF)के हवाले करेगा। गुरुवार को सतीश को भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया गया है। इससे पहले पीएमओ ने सतीश के मामले में विदेश मंत्रालय को निर्देश दिया था। विदेश मंत्री के स्तर पर इसे हाई कमीशन ऑफ इंडिया ने बांग्लादेश को का’र्रवाई के लिए भेजा गया। जिसके बाद हाई कमीशन के काउंसलर गौतम विश्वास ने परिजनों से टेलीफोन पर बातचीत की और ई मेल भेजकर सतीश चौधरी का नागरिकता प्रमाण पत्र उपलब्ध करवाने का अनुरोध किया गया।