बिहार-झारखंड के बीच शुरू हुई पहली सौर ऊर्जा ट्रेन, सोलर युक्त पावर से चलेगी

PATNA: बिहार और झारखण्ड के बीच शनिवार को पहली सौर ऊर्जा से चलने वाली ट्रैन को हरी झंडी दिखाई गई। ऊर्जा से संचालित 6 कोच की पैसेंजर ट्रेन साहिबगंज से बिहार के जमालपुर रेल खंड तक चलेगी।

ट्रेन सुबह साहिबगंज से खुलेगी और बिहार के जमालपुर तक का सफर तय करने के बाद वापस साहिबगंज आएगी। बिहार और झारखंड के बीच चलने वाली यह पहली ट्रेन है जो सोलर युक्त पावर से चलेगी। इस ट्रैन का नाम हरित डीएमयू पैसेंजर रखा गया है। यह जमालपुर मेंटनेंस वर्कशॉप में तैयार की गई है।

अभी इस ट्रैन में 6 कोच ही रखे गए हैं, बाद में यात्रियों की संख्या के आधार पर कोच की संख्या बढ़ाई भी जा सकती है। हरित डीएमयू पैसेंजर ट्रेन की खासियत यह है कि इसमें दोनों तरफ इंजन लगा हुआ है। जिसके चलते इसमें इंजन बदलने का कोई झंझट नहीं है। वहीँ यात्रियों के बैठने के लिए पहले की तरह से सीट है साथ ही बिजली पंखे की भी सुविधा है। ये ट्रैन साहिबगंज से जमालपुर के लिये प्रातः सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर प्रस्थान करेगी। जिसके बाद यह ट्रेन प्रत्येक स्टेशन पर रुकते हुए यात्रियों को लेकर चलेगी और फिर वापस जमालपुर से सहिबगंज को वापसी करेगी। इस ट्रैन को प्रभारी डीआरएम पीके मिश्रा ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

वहीँ इस दौरान मीडिया से बात करते हुए पीके मिश्रा ने कहा कि सोलर युक्त ट्रेन खुलने से इंधन की बचत होगी और कार्बन डाईऑक्साइड पर भी रोक लगेगी। इसी के साथ ही इससे किसी तरह की ध्वनि प्रदूषण की संभावना नहीं है।