आगामी चुनाव को लेकर RJD की रणनीति, पार्टी में दलितों को आरक्षण देने की बनाई योजना

PATNA: बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी कमर कस ली है। जहाँ एक तरफ एनडीए गठबंधन अपनी तैयारियों में लगा हुआ है तो वहीं दूसरी तरफ महागठबंधन के दल खुद को मजबूत करने में लगे हुए हैं। इस बीच राष्ट्रीय जनता दल ने मुस्लिम-यादव वोट बैंक के साथ-साथ दलित वोट बैंक पर भी नजर डालनी शुरू कर दी है।

गुरूवार को आरजेडी की समीक्षा बैठक हुई। बैठक में आरजेडी ने पार्टी में एससी-एसटी को आरक्षण देने की योजना बनाई है। आरजेडी की निचली इकाई से लेकर राज्य और राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अब एससी-एसटी से आने वाले नेताओं को आरक्षित दिया जाएगा. स्पष्ट है कि आरजेडी की नजर मुस्लिम-यादव समीकरण से बढ़कर दलित वोट बैंक को अपने पाले में करने की है।

आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के आवास पर आरजेडी की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में तेजस्वी यादव उपस्थित नहीं हुए। इस बैठक आरजेडी के विधायकों सहित एमएलसी और अन्य नेता भी सम्मिलित हुए। इतना ही नहीं बैठक में प्रदेश के अभी जिलों के अध्यक्षयों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज की।

आरजेडी ने अपनी इस बैठक में संगठन चुनाव प्रभारियों को भी बुलाया था। लगभग तीन घंटे तक चली आरजेडी की इस बैठक में चुनाव को लेकर कई बातों पर चर्चा की गई। बैठक में कई फैसले लिए गए। वहीँ सबसे महत्वपूर्ण फैसला संगठन में SC-ST को आरक्षण देना है।