बिहार बोर्ड मैट्रिक परीक्षा में फेल होने वाले छात्रों का साल नहीं होगा बर्बाद, ये है विकल्‍प

Patna: आज दोपहर 12:30 बजे तक बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की मैट्रिक परीक्षा का परिणाम बोर्ड की वेबसाइट पर जारी कर दिया जाएगा। इस रिजल्‍ट का परीक्षा देने वाले 1660609 परीक्षार्थियों को इंतजार है। इनमें फेल होने की आशंका से परेशान परीक्षार्थियों की संख्‍या भी बड़ी होगी। आज हम ऐसे परीक्षार्थियों के लिए उपलब्‍ध विकल्प की जानकारी दे रहे हैं।

दरसल अगर कोई परीक्षार्थी परीक्षा में असफल हो जाता है तो वह नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ ओपन स्‍कूलिंग (NIOS) में दाखिला ले सकता है। एनआइओएस में एडमिशन लेकर 10वीं या 12वीं की परीक्षा दोबारा दी जा सकती है। इसमें किसी भी बोर्ड के छात्र नामांकन ले सकते हैं। खास बात यह है कि ऐसे छात्रों को केवल उन्‍हीं विषयों की परीक्षा देनी होती है, जिनमें वे फेल हुए हैं। यहां दूसरे बोर्ड से पास विषयों की परीक्षा नहीं देने की छूट मिलती है। परीक्षार्थी अगर एनआइआेएस से परीक्षा पासकर जाते हैं तो उनका साल बर्बाद नहीं होता है। एनआइओएस के रिजल्‍ट का किसी भी अन्‍य बोर्ड के रिजल्‍ट के बराबर मान्‍यता है।

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के कारण एनआईओएस (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग) ने 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा की तिथि में बदलाव किया है। एनआईओएस ने उन सभी तिथियों की परीक्षा को आगे बढ़ा दिया है, जो चुनाव वाले दिन होने थे। इनमें 11, 18, 23, 29 अप्रैल और 6 मई की तिथि शामिल हैं। ज्ञात हो कि एनआईओएस की 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा चार अप्रैल से चार मई तक निर्धारित थी। परीक्षा हर दिन होनी थी, लेकिन चुनाव की तिथि घोषित होने के बाद चुनाव वाले दिन की तिथि में बदलाव कर दिया गया है।