भाजपा से टिकट कटा तो जेडीयू प्रदेश अध्यक्ष से मिलने पहुँच गए सांसद महोदय

PATNA : एनडीए में सीट बंटवारा तो हो गया लेकिन उसके बाद टिकट कटने वाले सांसदों के  की हलचल तेज हो गई है। भाजपा ने अपने हिस्से की 5 जीती हुई सीटें जेडीयू को दी है। उन्ही में से एक सीट है झंझारपुर। सीट बंटवारे में झंझारपुर सीट जेडीयू के खाते में गई और सीट से वर्तमान सांसद वीरेंद्र चौधरी (Virendra Choudhary) का टिकट कट गया। सोमवार को वीरेंद्र चौधरी प्रदेश जेडीयू अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर मिलने पहुंचे तो अटकलों का बाज़ार गर्म हो गया। 

मुलाक़ात के बाद जब वीरेंद्र चौधरी बाहर निकले तो पत्रकारों ने उनसे सवाल पूछे लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। इस मुलाक़ात के सम्बन्ध में वशिष्ठ नारायण सिंह से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि भाजपा सांसद और उनके बीच पुरानी मित्रता है इसलिए वो हमसे मुलाक़ात करने पहुंचे थे। 2014 में भाजपा ने 22 सीटें जीती थी लेकिन इस बार वो सिर्फ 17 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जिसके कारण उसे अपने 5 मौजूदा सांसदों के टिकट काटने पड़े। टिकट कटने के बाद सांसदों और उनके कार्यकर्ताओं की नाराजगी भी सामने आने लगी है। वाल्मीकिनगर से भी सतीश दुबे का टिकट काटने के बाद वहां के कार्यकर्ताओं ने भारी नाराजगी सामने आई।

Quaint Media, Quaint Media consultant pvt ltd, Quaint Media archives, Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar, Live Bihar, Live India

गिरिराज सिंह का नवादा सीट भी भी भाजपा के सहयोगी लोजपा के खाते में पहुँच गई जिसके बाद गिरिराज सिंह की भी नाराजगी सामें आ रही है। हालाँकि चर्चा है कि उन्हें बेगूसराय से लड़ाया जा सकता है। शाहनवाज हुसैन की सीट भागलपुर भी जेडीयू के खाते में चली गई। हालाँकि शाहनवाज 2014 का चुनाव भागलपुर से हार गए थे लेकिन इस बार कयास लगाए जा रहे थे कि उन्हें टिकट मिलेगा लेकिन सीट जेडीयू के हिस्से चले जाने के बाद उन्हें टिकट मिलने की संभावना लगभग ख़त्म हो गई है। भागलपुर में भी भाजपा कार्यकर्ताओं और शाहनवाज समर्थकों में नाराजगी है। कार्यकर्ताओं की नाराजगी से निपटना भाजपा के लिए टेढ़ी खीर साबित हो सकती है।