भाजपा नेता ने JDU-BJP गठबंधन पर उठाया सवाल तो पार्टी ने मांगा कारण बताओ नोटिस

PATNA: भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी सच्चिदानंद राय ने JDU के साथ गठबंधन पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि ‘आखिर यह रिश्ता क्या कहलाता है’ इसके बारे में मैं कुछ नहीं जानता हूं। बड़ी बेबाकी से इन्होंने कहा कि मैं बस इतना जानता हूं कि नीतीश कुमार, जिस पार्टी के साथ भी गठबंधन में रहेंगे, मुख्यमंत्री वही बनेंगे। नीतीश कुमार सत्ता के लिए कुछ भी कर सकते हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा में इतना दम है कि वो अकेले ही चुनाव लड़ सकती है। इस मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को तुरंत फैसला लेना चाहिए और बिहार में गठबंधन पर चर्चा करनी चाहिए।

sachidanand rai bjp
कारण बताओ नोटिस जारी

सच्चिदानंद राय के इस बयान के बाद उनकी पार्टी भाजपा के अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति के अध्यक्ष अमरेंद्र प्रताप सिंह ने उनको कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए 10 दिन के अंदर जवाब देने को कहा है। समिति ने नोटिस में बताया कि हाल के दिनों में मीडिया में सच्चिदानंद राय का बयान पार्टी की विचारधारा के अलग है। इसके लिए उन्हें बार-बार समझाया गया लेकिन बावजूद पार्टी के विरूद्ध उन्होंने अपनी आवाज बुलंद करते रहे हैं। उनकी बयानबाजी से पार्टी संगठन और गठबंधन की गरिमा और मर्यादाएं आहत हुयी है, इसलिए अनुशासन तोड़ने के लिए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया जा रहा है।

कयास पर विरामचिन्ह लग चुका

आपको बता दें कि आज ही बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने विधानसभा में कहा है कि कोई किसी भ्रम में ना रहे। NDA 2020 का विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के साथ ही लड़ेगा। उन्होंने यह भी कहा कि डूबती हुई नाव पर कोई सवार नहीं होना चाहेगा। जिस महागठबंधन को 2019 के लोकसभा चुनाव में 40 में से एक ही सीट पर सफलता प्राप्त हुई, उसके साथ कौन जाना चाहेगा। आपको बता दें कि केन्द्र में नये मंत्रिमंडल के गठन के बाद ही से लगातार कयास लगाया जा रहा है कि नीतीश कुमार एनडीए से अलग होकर 2020 का विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। हालांकि अब इस कयास पर विरामचिन्ह लग चुका है।