बिहारवासी को ठगने वाले तेजस्वी यादव सदमे में, करना होगा प्रायश्चित-भाजपा प्रवक्ता संजय मयूख

PATNA: भाजपा प्रवक्ता संजय मयूख ने कहा है कि लोकसभा चुनाव 2019 में करारी हार के बाद राजद नेता तेजस्वी सदमे में पहुंच गये हैं। यही कारण है कि लोगो को वे खोजने पर भी नहीं मिल रहे हैं। मेरा सलाह है कि जब वो सदमें से बाहर निकले तो बिहार की भोली-भाली जनता को कम उम्र में भ्रम फैलाकर ठगने का काम करने के लिए माफी मांग लेना चाहिए। इससे शायद कुछ पाप धुल जाए।

भाजपा प्रवक्ता संजय मयूख

आपको बता दें कि विपक्षी दल के नेताओं द्वारा तेजस्वी यादव पर लगातार तंज कसा जा रहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद पब्लिक लाइफ में नजर नहीं आ रहे है। इसपर जदयू के प्रवक्ता अजय आलोक ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि तेजस्वी पाताल-लोक में है। उन्हें खोजना है तो पाताल-लोक में लाइट जलाकर ढूढ़ें, वे वहां अवश्य मिल जायेंगे। इससे पहले भी आलोक कई बार तेजस्वी की आलोचना कर चुके हैं। उन्होंने यहां तक कह दिया कि तेजस्वी यादव महागठबंधन के क्या राजद के भी नेता नहीं है? राजद में विद्रोह का बिगुल बज चुका है, सिर्फ तेजस्वी के चमचे ही उन्हें राजद का नेता बता रहे हैं। उनके घर के लोग ही उन्हें पार्टी के नेता नहीं मान रहे हैं तो पूरी पार्टी की बात क्या किया जाए?

लोकसभा चुनाव में करारी हार के कारण आलोचना को सहना पड़ रहा है-

एनडीए बिहार के कुल 40 लोकसभा सीटों में एनडीए ने 39 सीटों पर शानदार जीत हासिल की। राजद को एक भी सीट नहीं मिली। इस कारण राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कुछ दिनों तक चिं’ता के कारण खाना-पीना छोड़ दिये थे। यहां तक की जीतन राम मांझी की पार्टी हम और मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी भी शून्य पर ही आ’उट हो गयी थी। इस तरह करारी हार के बाद वि’पक्षी पार्टियां सहित महागठबंधन के नेताओं ने भी तेजस्वी के नेतृत्व पर प्रश्न’चिन्ह लगाना शुरु कर दी है। इतना ही नहीं, अब उनकी अपनी पार्टी के नेता भी उन्हें 2020 के विधानसभा चुनाव का नेतृत्व करने नहीं देना चाहते हैं।