तीन लाख छात्रों के लिए बड़ी खबर, दारोगा बहाली परीक्षा में स्नातक उत्तीर्ण वर्ष की बाध्यता खत्म

PATNA : बिहार पुलिस सबऑर्डिनेट सेलेक्‍शन कमीशन, बीपीएसएससी की 1 जनवरी, 2019 तक ग्रेजुएशन कर चुकने की शर्त से 2015-18 के लाखों छात्र प्रभावित हो रहे थे। अब इसमें बदलाव कर दिया गया है। छात्रों ने आयोग से गुहार लगाई थी और स्नातक की समय सीमा का भारी वि’रोध किया था। आयोग की पहले की शर्त के मुताबिक एक जनवरी 2019 तक स्नातक परीक्षा पास करने वालों को मौका दिया जाना था।

BPSSC ने लगभग 2426 रिक्तियों के लिए भर्ती की प्रक्रिया शुरू की है। 2446 वैकेंसी के तहत सब इंस्‍पेक्‍टर, सर्जेंट, असिस्‍टेंट सुपरीटेंडेंट जेल और असिस्‍टेंट सुपरीटेंडेंट जेल , होम डिपार्टमेंट (पुलिस) और होम डिपार्टमेंट (जेल) के पद शामिल हैं। आपको बता दें कि मगध विवि का रिजल्ट वर्ष 2019 के फरवरी महीने में प्रकाशित हुआ था। इस वजह से अब छात्र बिना गलती के ही इस बहाली से ही वंचित हो सकते थे लेकिन अब इस फैसले में बदलाव से उनकी चिंता दूर हो गयी है।

अब जनरल श्रेणी के पुरुष उम्‍मीदवारों के लिये आयु सीमा 20 से 37 वर्ष है। जबकि महिला उम्‍मीदवारों के लिये आयु सीमा 20 से 40 वर्ष है , वहीं EWS श्रेणी के पुरुष अभ्‍यर्थी के लिये उम्र सीमा 20 से 37 वर्ष है और महिला अभ्‍यर्थी के लिये 20 से 40 वर्ष है। आपको बता दें कि इस परीक्षा में प्रस्तुत होने के लिए इस समय आवेदन भरे जा रहे हैं। आवेदन भरने का अंतिम दिन 25 सितंबर है। दो दिनों में ही 10 हजार से अधिक परीक्षार्थियों ने आवेदन किए हैं।

आयोग के पहले निर्देश के अनुसार, अभ्यर्थी का 1 जनवरी, 2019 अथवा इसके पहले किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक परीक्षा या राज्य सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त उसके समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण होना अनिवार्य था। लेकिन अब ऐसी कोई अनिवार्यता नहीं है। अब सभी इच्छुक छात्र आवेदन कर सकते हैं।