मुजफ्फरपुर में बागमती नदी पर बना कॉफर बांध में पिछले 15 दिनों में तीन बार टूटा

PATNA: मुजफ्फरपुर में बागमती नदी पर बनी कॉफर बांध एक बार फिर टूट गया है। आपको बता दें कि पिछले 15 दिनों में यह बांध तीन बार टूट चुका है। इस बांध की मरम्मत के लिए सरकार द्वारा की जा रही तमाम कोशिशे नाकाम हो चुकी है। बागमती नदी में पानी का उफान बहुत तेज है और जलस्तर 70 फीट तक पहुंच चुका है। इसके बाद से बाढ़ आने की आशंका से ग्रामीण परेशान हैं।

Chachri wala pul.

इसके कारण गांवों में अचानक पानी आ जाने से लोगों ने आवागमन के लिए चचरी पुल का सहारा लिया है। आपको बता दें कि मधुबन प्रताप और अतरार घाट पर चचरी पुल का संचालन शुरू हो गया है।

इससे पहले 30 जून को बांध टूटने पर मरम्मत कार्य में 1.50 करोड़ रुपया खर्च किया गया था। आपको बता दें कि इस बार हल्की बारिश के कारण ही बांध टूट गया है। हाल ही 24 करोड़ की लागत से मरम्मत कार्य संपन्न हुआ था। बागमती नदी के बांध टूटने से किसानों को अपने खेतों में आने-जाने में असुविधा हो रही है। इसके कारण किसान बागमती प्रमंडल के अधिकारियों और सरकार के प्रति आक्रोश व्यक्त किया है।

बांध टूटने पर अधिकारियों ने क्या कहा-

BDO सत्येंद्र कुमार यादव कहना है कि बागमती नदी पर मजबूती से एक मजबूत बांध बांधने की आवश्यकता है। वहीं अंचलाधिकारी शंकरलाल विश्वास का कहना है कि कॉफर डैम की चौड़ाई बहुत कम है। इसके अलावा इसे मजबूती से नहीं बनाया गया, जिससे यह पानी का दबाव नहीं झेल पाया और टूट गया।

बारिश के कारण नदियों का जलस्तर बढ़ना शुरु हो चुका है-

उत्तर बिहार व सीमावर्ती नेपाल की नदियों के जलग्रहण क्षेत्र में पिछले पांच दिनों से लगातार हो रही बारिश के कारण नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। कई नदियां उफान पर हैं। इसको देखते हुए मौसम विभाग ने बिहार में भारी बारिश और बाढ़ की चेता’वनी दी है। जल संसाधन विभाग के अनुसार पटना में गंगा के जलस्तर में बढ़ोतरी दर्ज हो रही है।