शेल्टर होम मामले में सीबीआई हुई सख्त, जाँच के लिए टीम पहुंची सुपौल

PATNA : शेल्टर होम मामले को लेकर अब सीबीआई भी तेजी दिखा रही है। बुधवार को पटना सीबीआई की टीम ने सदर अस्पताल पहुंचकर शेल्टर होम महिलाओं की जांच की। बता दें कि मधेपुरा शेल्टर होम से महिलाओं को सुपौल शेल्टर होम में शिफ्ट किया गया था। सीबीआई की टीम ने लगभग 4 घंटे तक मामले की जांच की।

सीबीआई टीम ने सीएस वेश्म में चली जांच में पिछले वर्ष मधेपुरा शेल्टर होम से सुपौल में शिफ्ट की गयी महिलाओं और लड़कियों की मेडिकल जांच की पड़ताल की। मिली जानकारी के मुताबिक पटना सीबीआई की टीम ने शेल्टर होम मामले से जुड़े और मेडिकल टीम द्वारा की गयी जांच रिपोर्ट को खंगाला। सीबीआई टीम ने जाँच के दौरान तत्कालीन मेडिकल बोर्ड के संबंधित चिकित्सक से भी पूछताछ की। इसी के साथ ही सीबीआई टीम ने सुपौल में अल्पावास के संचालक से भी पूछताछ की। सीबीआई की टीम ने बंद कमरे में लगभग 4 चार घंटे तक मामले से जुड़े लोगों और सम्बंधित कागजों की बारीकी जांच की।

Quaint Media

बिहार में मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की घटना के बाद हर जगह अल्पावास की निगरानी बढ़ा दी गयी है। शेल्टर होम मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य की नीतीश सरकार को भी फटकार लगाई थी। वहीँ राजनीतिक पार्टियां भी इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इस्तीफे की मांग कर रही हैं। बजट सत्र के दौरान विपक्षी दलों ने सदन में मामले को लेकर काफी हंगामा भी किया था।

शेल्टर होम मामले को लेकर आरजेडी नेता राबड़ी देवी ने भी नीतीश कुमार पर निशाना साधा था। राबड़ी देवी ने शब्दों का प्रहार करते हुए कहा कि नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे देना चाहिए। वहीँ आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार को लेकर हमला बोलते हुए कहा कि “आज तक किसी को सुप्रीम कोर्ट ने इस तरह से फटकार नहीं लगायी, तेजस्वी यादव ने आरोप लगाते हुए कहा कि नीतीश सरकार अपराधियों को बचाने का काम कर रही है। तेजस्वी यादव ने विधानसभा में लॉ एंड ऑर्डर का मामला उठाते हुए कहा कि सीएम लॉ एंड ऑडर पर ऑल इज वेल कहते हैं। इस पर सवाल उठाते हुए तेजस्वी ने कहा कि कहां है ऑल इज वेल? सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद कैसे है आल इज वेल ?