छठ पूजा के नाम पर व्रत करती है मुस्लिम महिलाए, पानी में खड़ होकर दिया जाता है अर्घ्य

PATNA : छठ महापर्व सांप्रदायिक सौहार्द की भी मिसाल है। हर धर्म के लोग इस पर्व को उल्लास से मनाते हैं। पटना के वीरचंद पटेल पथ और दारोगा प्रसाद पथ पर सालों से मुस्लिम महिलाएं छठ पूजा के लिए मिट्टी का चूल्हा बनाती हैं। छठ में व्रती पूजा और खरना का प्रसाद मिट्टी के बने नये चूल्हे पर बनाती है। इस पर्व में मिट्टी के बने चूल्हे का काफी महत्व होता है।

मुस्लिम महिलाओं का छठ पूजा में काफी आस्था है इसलिए वो बड़े ही मनोयोग और साफ-सफाई के साथ चूल्हा बनाकर बेचती है। इतना ही नहीं वो छठ पूजा भी करती हैं। चूल्हा बेचने वाली मुसतिकीमा खातून का कहना है कि 10 सालों से वो छठ के लिए चूल्हा बना रही है। उनके घर में भी लोग छठ व्रत करता है। इससे कुछ कमाई भी हो जाती है, साथ ही पूजा में अपनी तरफ से एक सहयोग भी हो जाता है।

वहीं, एक महिला ग्राहक दया मणि का कहना है कि छठ पर्व धर्म के ऊपर है। यह मुस्लिम महिलाएं काफी शुद्धता के साथ चूल्हा बनाती है। मिट्टी का चूल्हा छठ पूजा में काफी अहमियत रखता है। हम हिंदू भी ईद मनाते हैं और ये मुस्लिम भी छठ में हमारे साथ खुश होते हैं। यहां कोई भेदभाव नहीं होता है।

The post छठ पूजा के नाम पर व्रत करती है मुस्लिम महिलाए, पानी में खड़ होकर दिया जाता है अर्घ्य appeared first on Mai Bihari.