चौकीदारों ने सरकार के खिलाफ छेड़ा आंदोलन,वसूली करवाने वाली पु’लिस के अधीन काम करने से किया इंकार

PATNA: बिहार में राज्य के विभिन्न हिस्सों के चौकीदारों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार के खि’लाफ वि’रोध-प्रद’र्शन शुरु कर दिया। इन चौकीदारों का कहना है कि सरकार हमलोगों को पुलि’स के अधीन करने जा रही है। इससे था’नाध्यक्ष चौकीदारों को जब’रन वसू’ली के काम में लगायेंगे, जिससे समाज में भ्रष्टा’चार बढ़ेगी।

CHOWKIDAR PROTEST IN PATNA

आपको बता दें कि इस समय चौकीदारों जिला स्तर पर काम करते हैं। इनका काम पुलि’स से इतर होता है। इसको नियंत्रित करने के लिए पुलि’स मैन्यूअल के अलावा चौकीदारी मैन्यूअल बनाया गया था। इसके कारण चौकीदार को जिला अधिकारी कंट्रोल करते हैं इसलिए ये लोग पुलि’स अध्यक्ष के अधीन आना नहीं चाहते हैं। इतना ही नहीं, इनलोगों ने सरकार से कहा है कि चौकीदार के शेष आश्रितों को जल्द से जल्द नौकरी दी जाए।

बिहार में पिछले एक महीने में सरकार के खिलाफ कई आंदोलन हो चुका है

आपको बता दें कि राज्य में पिछले एक महीनों में शिक्षकों, छात्रों और अन्य कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ कई आंदोलन किया है और अपनी मांग से अवगत कराया है। पटना में सात सूत्री मांग के साथ राज्य के नियोजित शिक्षकों ने बिहार विधानसभा का घेराव किया और गेट तोड़ने की कोशिश की तो पुलिस ने वाटर-केनन से पानी की बौछार की। गुस्साये शिक्षकों ने पत्थ’रबाजी करने लगे तो पुलिस ने कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए उनपर ला’ठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी दागी थी।

इससे पहले जून में टीईटी और सीटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थी लगातार सरकार से गुहार लगा रहे थे कि वे शिक्षकों के रिक्त पड़े सीटों पर बहाली निकाले ताकि टीईटी और सीटीईटी पास शिक्षक अभ्यर्थियों को बेरोजगार होकर दर-दर की ठोकरे नहीं खाना पड़े। बिहार में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूलों में लगभग 2 लाख से ज्यादा शिक्षकों की सीट खाली है। इसी सीट को भरने के लिए शिक्षक अभ्यर्थी धरना देने जा रहे थे, लेकिन पु’लिस ने पुरूष अभ्यर्थियों के साथ-साथ महिला अभ्यर्थियों को भी बड़ी बेह’रमी से पी’टा। इस तरह देख रहे हैं कि लगातार बिहार सरकार के खि’लाफ कर्मचारियों का गुस्सा फूट रहा है।