कांग्रेस नेता सदानंद सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत,कहा-आपसी सहमति सबसे सही रास्ता

Patna: सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में मध्यस्थता पर अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट के इस फैसले के बाद सभी राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई है। कांग्रेस ने इस फैसले का स्वागत किया है।

दरसल सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मध्यस्थता के जरिए मामले का निपटारा किया जाना चाहिए। बिहार विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता सदानंद सिंह ने कहा कि भारत एक संप्रभुता वाला देश है। यहां किसी भी गंभीर मसले का निपटारा आपसी सहमति से होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से बहुत जल्द इस पर निर्णय आ जाएगा। हालांकि सदानंद सिंह ने कहा कि इसका बीजेपी को कोई फायदा नहीं मिलेगा। सदानंद सिंह ने कहा कि राम मंदिर मुद्दे पर कांग्रेस पहले से भी आपसी सहमति की बात करती रही है। क्योंकि मामला सुप्रीम कोर्ट के पास था, तो हमें भी फैसले का इंतजार लंबे अरसे से था। उम्मीद है कि अब जल्द मामले का हल हो जाएगा।

आपको बता दें कि इससे पहले पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने बुधवार को अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को मध्यस्थता के लिए भेजने के फैसले को सुरक्षित रख लिया था। हालांकि उत्तर प्रदेश राज्य सहित हिंदू पक्षकारों ने अदालत के प्रस्ताव का विरोध किया था। आज हुई सुनवाई में संविधान पीठ ने तय कर दिया कि समझौते के लिए जो मध्यस्थ नियुक्त किए हैं वो इस मामले की मध्यस्थता करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आपसी बातचीत के जरिए ही मामला सुलझाया जाएगा।