महागठबंधन की हार पर कांग्रेस की बैठक, तेजस्वी और उपेंद्र कुशवाहा के सिर फोड़ा हार का ठीकरा

PATNA; लोकसभा चुनाव में महागठबंधन की हार को लेकर बिहार की राजनीति में अभी भी बयानबाजी रूकती नहीं दिख रही है। रविवार को बिहार कांग्रेस के नेताओं ने हार की समीक्षा बैठक की। इस बैठक में महागठबंधन की हार का ठीकरा आरजेडी नेता तेजस्वी यादव, उपेंद्र कुशवाहा और मुकेश सहनी के सिर फोड़ा गया।

बिहार कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा महागठबंधन की हार पर आयोजित की गई समीक्षा बैठक में कुछ नेताओं ने कांग्रेस पार्टी को महागठबंधन से अलग होने की राय भी दी। इस दौरान कांग्रेस पार्टी के नेताओं का सबसे ज्यादा गुस्सा तेजस्वी यादव, उपेंद्र कुशवाहा और मुकेश सहनी पर फूटा।


इस बैठक में कांग्रेस पार्टी के विभिन्न जिलाध्यक्षों ने स्पष्ट रूप से आरजेडी नेता तेजस्वी प्रसाद यादव, सन ऑफ मल्लाह मुकेश सहनी और रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा पर सवाल उठाए। करीब तीन घंटे तक चली बैठक में कई जिलाध्यक्षों ने कांग्रेस पार्टी को आगामी विधानसभा चुनाव में अकेले अपने दम पर चुनाव लड़ने की सलाह तक दे दी।

समीक्षा बैठक में महागठबंधन में टिकट बंटवारे को लेकर भी सवाल उठाए गए। कांग्रेस पार्टी को मात्र 9 सीटें देने पर तेजस्वी यादव पर निशाना साधा गया। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि बिहार की बहुत सी सीटें ऐसी है जिन पर कांग्रेस पार्टी का अच्छा जनादेश था लेकिन ये सीटें बंटवारे में अन्य दलों के खाते में चली गईं। अगर ये सीटें कांग्रेस के खाते में आती तो शायद परिणाम कुछ कर होते।

कोंग्रस पार्टी की इस बैठक में राहुल गाँधी के अध्यक्ष पद बने रहने की बात ने भी जोर पकड़ा। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि उन्हें राहुल गांधी के सिवा कोई दूसरा राष्ट्रीय अध्यक्ष मंजूर ही नहीं है। बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से इस्तीफा वापस लेने का प्रस्ताव भी पारित किया गया।